Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2016 · 1 min read

गज़ल ( सेक्युलर कम्युनल )

गज़ल ( सेक्युलर कम्युनल )

जब से बेटे जबान हो गए
मुश्किल में क्यों प्राण हो गए

किस्से सुन सुन के संतों के
भगवन भी हैरान हो गए

आ धमके कुछ ख़ास बिदेशी
घर बाले मेहमान हो गए

सेक्युलर कम्युनल के चक्कर में
गाँव गली शमसान हो गए

कैसा दौर चला है अब ये
सदन कुश्ती के मैदान हो गए

बिन माँगें सब राय दे दिए
कितनों के अहसान हो गए

गज़ल ( सेक्युलर कम्युनल )
मदन मोहन सक्सेना

291 Views
You may also like:
पिता
लक्ष्मी सिंह
कहानी *"ममता"* पार्ट-3 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
इक्यावन दिलकश ग़ज़लें
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️तन्हा खामोश हूँ✍️
'अशांत' शेखर
पढ़ाई - लिखाई
AMRESH KUMAR VERMA
!! मुसाफिर !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
बीमार हैं सभी यहां
Shekhar Chandra Mitra
विभाजन की विभीषिका
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उम्मीद नही छोड़ते है ये बच्चे
Anamika Singh
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
पुस्तैनी जमीन
आकाश महेशपुरी
धन्य है पिता
Anil Kumar
विश्व वरिष्ठ नागरिक दिवस
Ram Krishan Rastogi
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
गीत
धीरेन्द्र वर्मा "धीर"
दुर्गा मां से प्रार्थना
Dr.sima
😊तेरी मिरी चिड़ी पीड़ि😊
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दर्जी चाचा
Buddha Prakash
मंगलसूत्र
संदीप सागर (चिराग)
यह क्या किया तुमने
gurudeenverma198
कविता " बोध "
vishwambhar pandey vyagra
चढ़ती उम्र
rkchaudhary2012
हमारी हस्ती।
Taj Mohammad
समारंभ
Utkarsh Dubey “Kokil”
आजमाते रहिए
shabina. Naaz
बदला नहीं लेना किसीसे, बदल के हमको दिखाना है।
Uday kumar
क्या हाल है आजकल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
घर घर तिरंगा हो।
Rajesh Kumar Arjun
यकीं करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
Loading...