Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2016 · 1 min read

गज़ल ( सेक्युलर कम्युनल )

गज़ल ( सेक्युलर कम्युनल )

जब से बेटे जबान हो गए
मुश्किल में क्यों प्राण हो गए

किस्से सुन सुन के संतों के
भगवन भी हैरान हो गए

आ धमके कुछ ख़ास बिदेशी
घर बाले मेहमान हो गए

सेक्युलर कम्युनल के चक्कर में
गाँव गली शमसान हो गए

कैसा दौर चला है अब ये
सदन कुश्ती के मैदान हो गए

बिन माँगें सब राय दे दिए
कितनों के अहसान हो गए

गज़ल ( सेक्युलर कम्युनल )
मदन मोहन सक्सेना

345 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेटी और प्रकृति
बेटी और प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
उपहार
उपहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
-- दिखावटी लोग --
-- दिखावटी लोग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
"डोली बेटी की"
Ekta chitrangini
दुखों का भार
दुखों का भार
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
स्मृतियाँ
स्मृतियाँ
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
अकेला गया था मैं
अकेला गया था मैं
Surinder blackpen
राम की रहमत
राम की रहमत
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पापियों के हाथ
पापियों के हाथ
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
न जमीन रखता हूँ न आसमान रखता हूँ
न जमीन रखता हूँ न आसमान रखता हूँ
VINOD CHAUHAN
आशा की एक किरण
आशा की एक किरण
Mamta Rani
आत्म संयम दृढ़ रखों, बीजक क्रीड़ा आधार में।
आत्म संयम दृढ़ रखों, बीजक क्रीड़ा आधार में।
Er.Navaneet R Shandily
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
Dr Archana Gupta
वास्तविक ख़तरा किसे है?
वास्तविक ख़तरा किसे है?
Shekhar Chandra Mitra
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
निशांत 'शीलराज'
मन चाहे कुछ कहना....!
मन चाहे कुछ कहना....!
Kanchan Khanna
2444.पूर्णिका
2444.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ये सच है कि उनके सहारे लिए
ये सच है कि उनके सहारे लिए
हरवंश हृदय
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
Manisha Manjari
खोखला वर्तमान
खोखला वर्तमान
Mahender Singh Manu
ख़्वाब आंखों में टूट जाते है
ख़्वाब आंखों में टूट जाते है
Dr fauzia Naseem shad
बिजलियों का दौर
बिजलियों का दौर
अरशद रसूल बदायूंनी
National Cancer Day
National Cancer Day
Tushar Jagawat
कैसा कोलाहल यह जारी है....?
कैसा कोलाहल यह जारी है....?
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
💐अज्ञात के प्रति-96💐
💐अज्ञात के प्रति-96💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
Dr. Man Mohan Krishna
*चलो अयोध्या रामलला के, दर्शन करने चलते हैं (भक्ति गीत)*
*चलो अयोध्या रामलला के, दर्शन करने चलते हैं (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
#बधाई
#बधाई
*Author प्रणय प्रभात*
वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढते हैं ।
वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढते हैं ।
Phool gufran
Loading...