Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2022 · 1 min read

गज़ल सुलेमानी

डा . अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

* गज़ल सुलेमानी *

हमारी याद आये तो कभी मिलना अकेले में
अन्धेरे तुम को अगर डराएँ कभी मिलना अकेले में //
तसब्बुर की तनहाई सभी को पेश आती है
ये छोटी से हैं कहानी सभी को पेश आती है //
नहीं तल्खी नही जज्बा न कोई शिकायत हो
अकेले पन से जब उक्ताओ कभी मिलना अकेले में //
खुदी से खुद का हो अगरचे सामना तेरा
कभी आवाज देना चले आयेंगे अकेले में //
तेरी बातें तेरी बोली वो मीठा सा लड़क्पन में बतियाना
सताता हैं अब अक्सर बहुत हमको अकेले में //
गमों से मन जब भी अकुलाये भीड से दिल जो बाज आये
हमें आवाज देकर बुला लेना अकेले में //
हमारी याद आये तो कभी मिलना अकेले में
अन्धेरे तुम को अगर डराएँ कभी मिलना अकेले में //
कभी बागों में कभी समन्दर का किनारा हो
घटाओं से भरे आसमान में जो चन्दा नजर न आता हो
सितारों की तरह जो कभी मजबूर पड़ जाओ
हमें आवाज देकर बुला लेना अकेले में
हमारी याद आये तो कभी मिलना अकेले में //

1 Like · 1 Comment · 220 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
ज़िदादिली
ज़िदादिली
Shyam Sundar Subramanian
इंतज़ार एक दस्तक की, उस दरवाजे को थी रहती, चौखट पर जिसकी धूल, बरसों की थी जमी हुई।
इंतज़ार एक दस्तक की, उस दरवाजे को थी रहती, चौखट पर जिसकी धूल, बरसों की थी जमी हुई।
Manisha Manjari
गूढ़ बात~
गूढ़ बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
बुद्ध बुद्धत्व कहलाते है।
बुद्ध बुद्धत्व कहलाते है।
Buddha Prakash
💐💐दोहा निवेदन💐💐
💐💐दोहा निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
मैं जी रहा हूँ जिंदगी, ऐ वतन तेरे लिए
मैं जी रहा हूँ जिंदगी, ऐ वतन तेरे लिए
gurudeenverma198
ओ मुसाफिर, जिंदगी से इश्क कर
ओ मुसाफिर, जिंदगी से इश्क कर
Rajeev Dutta
*सभी को चाँद है प्यारा, सभी इसके पुजारी हैं ( मुक्तक)*
*सभी को चाँद है प्यारा, सभी इसके पुजारी हैं ( मुक्तक)*
Ravi Prakash
जीवन समर्पित करदो.!
जीवन समर्पित करदो.!
Prabhudayal Raniwal
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
2402.पूर्णिका
2402.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
एक संदेश बुनकरों के नाम
एक संदेश बुनकरों के नाम
Dr.Nisha Wadhwa
अँधेरी गुफाओं में चलो, रौशनी की एक लकीर तो दिखी,
अँधेरी गुफाओं में चलो, रौशनी की एक लकीर तो दिखी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
👗कैना👗
👗कैना👗
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
बाल कविता: 2 चूहे मोटे मोटे (2 का पहाड़ा, शिक्षण गतिविधि)
बाल कविता: 2 चूहे मोटे मोटे (2 का पहाड़ा, शिक्षण गतिविधि)
Rajesh Kumar Arjun
जीवन
जीवन
Rekha Drolia
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
सत्य कुमार प्रेमी
माँ तेरी याद
माँ तेरी याद
Dr fauzia Naseem shad
लोकसभा बसंती चोला,
लोकसभा बसंती चोला,
SPK Sachin Lodhi
रेलयात्रा- एक यादगार सफ़र
रेलयात्रा- एक यादगार सफ़र
Mukesh Kumar Sonkar
पास है दौलत का समंदर,,,
पास है दौलत का समंदर,,,
Taj Mohammad
समीक्षा- रास्ता बनकर रहा (ग़ज़ल संग्रह)
समीक्षा- रास्ता बनकर रहा (ग़ज़ल संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐इश्क़ में फ़क़्र होना भी शर्त है💐
💐इश्क़ में फ़क़्र होना भी शर्त है💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भेंट
भेंट
Harish Chandra Pande
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
हिंदी है पहचान
हिंदी है पहचान
Seema gupta,Alwar
दिन में रात
दिन में रात
MSW Sunil SainiCENA
सेल्फी या सेल्फिश
सेल्फी या सेल्फिश
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"ये कैसी चाहत?"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...