Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

गुरु माया का कमाल

डॉ अरुण कुमार शास्त्री

आरजूएँ कम होती नहीं हैं सारी जिंदगी ।
एक – एक करके धूमती रहती सारी जिंदगी ।
एक होती पूरी तो दूसरी उठाती है फन अपना ।
इन्ही की तीमार दारी में गुजरता जीवन अपना ।
क्या तुम क्या मैं सबका बुरा हाल है क्या कमाल है ।
विधाता के राज्य में देख लो भाई यही तो धमाल है ।
इस मकड़ जाल से निकल पायेँ कैसे यही बड़ा सवाल है ।
गुरु क्या गुरु घण्टाल क्या त्याग समझाते सभी ।
खुद चलते मर्सिडीज में तुम चलो पेदल बतलाते सभी ।
माया मोह संतति रुपया पैसा छोड़ कर शरण में इनकी जाइये ।
बन बपुआ के बंदर माफ़िक इनको पल पल धोक लागाइए ।
देसी चेलों से मन तो इनका कभी नही भर पाया है ।
महिना दुई महिना पर स्वामी जी विदेसवा का चक्कर लगाया है ।
गऊ सेवा , निशक्त जन सेवा, आश्रम सेवा, वृक्ष सेवा ।
रोज रोज प्रवचन के बीच बीच दानोपार्जन चक्कर चलाया है ।
आरजूएँ कम होती नहीं हैं सारी जिंदगी ।
एक – एक करके धूमती रहती सारी जिंदगी ।
एक होती पूरी तो दूसरी उठाती है फन अपना ।
इन्ही की तीमार दारी में गुजरता जीवन अपना ।

196 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
सब खो गए इधर-उधर अपनी तलाश में
सब खो गए इधर-उधर अपनी तलाश में
Shweta Soni
3286.*पूर्णिका*
3286.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
■ लीजिए संकल्प...
■ लीजिए संकल्प...
*Author प्रणय प्रभात*
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"रिश्ता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*मायावी मारा गया, रावण प्रभु के हाथ (कुछ दोहे)*
*मायावी मारा गया, रावण प्रभु के हाथ (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
नेता
नेता
Raju Gajbhiye
बिजलियों का दौर
बिजलियों का दौर
अरशद रसूल बदायूंनी
योग
योग
जगदीश शर्मा सहज
1B_ वक्त की ही बात है
1B_ वक्त की ही बात है
Kshma Urmila
"तू-तू मैं-मैं"
Dr. Kishan tandon kranti
कितने आसान थे सम्झने में
कितने आसान थे सम्झने में
Dr fauzia Naseem shad
रुसवा दिल
रुसवा दिल
Akash Yadav
हे ईश्वर
हे ईश्वर
Ashwani Kumar Jaiswal
एक टहनी एक दिन पतवार बनती है,
एक टहनी एक दिन पतवार बनती है,
Slok maurya "umang"
दर जो आली-मकाम होता है
दर जो आली-मकाम होता है
Anis Shah
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
शिव प्रताप लोधी
तो जानो आयी है होली
तो जानो आयी है होली
Satish Srijan
समृद्धि
समृद्धि
Paras Nath Jha
माॅर्डन आशिक
माॅर्डन आशिक
Kanchan Khanna
तितली रानी
तितली रानी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana जिनका जीवन समर्पित है जनसेवा के लिए आखिर कौन है शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana ?
शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana जिनका जीवन समर्पित है जनसेवा के लिए आखिर कौन है शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana ?
Bramhastra sahityapedia
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
ज़िंदगी एक जाम है
ज़िंदगी एक जाम है
Shekhar Chandra Mitra
Ahsas tujhe bhi hai
Ahsas tujhe bhi hai
Sakshi Tripathi
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Loading...