Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2023 · 1 min read

“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,

“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,

नहीं मिटेगी मृगतृष्णा,कस्तूरी मन के अन्दर है,
सागर सागर भटकूँ मैं,प्यास बुझायें वो दरिया मेरे अन्दर है //

शांत कहाँ ह्रदय मेरा,उथल-पुथल मची हुयी है ,
झांककर देखा,तुफानो से घिरा समन्दर है //

नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
शांत कहाँ ह्रदय है मेरा ,तुफानो से घिरा समन्दर है //

बिखरी चांदनी सारे रिश्तों की,मेरे आँगन,
मन भागे चाँद की पीछे,जो की दूर बसा कही अम्बर है //

शांत कहाँ है ह्रदय मेरा,तुफानो से घिरा समन्दर है ……………………………

जो दिया तूने प्रसन्न चित्त्त स्वीकारा “रत्न” ने
चाहे फूल पलाश थे,या धरती ये बंज़र है //

मन व्याकुल सोचे,जीवन बीते इस हार जीत मैं,
जग जीता जिसने आधा,क्या वो आज सिकन्दर है //

नहीं मिटेगी मृगतृष्णा,कस्तूरी मन के अन्दर है
शांत कहाँ है ह्रदय मेरा,तुफानो से घिरा समन्दर है //……………………..

चार दिन की चांदनी,ये रूप रंग और ये यौवन ,
रह जायेंगे, शब्द अमिट और मन मेरा जो सुन्दर है //

नहीं मिटेगी मृगतृष्णा,कस्तूरी मन के अन्दर है,
शांत कहाँ है ह्रदय मेरा,तुफानो से घिरा समन्दर है //
———-

162 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गुप्तरत्न
View all
You may also like:
-अपनो के घाव -
-अपनो के घाव -
bharat gehlot
मौन
मौन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
Sunil Suman
एक तरफा दोस्ती की कीमत
एक तरफा दोस्ती की कीमत
SHAMA PARVEEN
कहानी - आत्मसम्मान)
कहानी - आत्मसम्मान)
rekha mohan
*आई सदियों बाद है, राम-नाम की लूट (कुंडलिया)*
*आई सदियों बाद है, राम-नाम की लूट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अखबार
अखबार
लक्ष्मी सिंह
"स्मार्ट विलेज"
Dr. Kishan tandon kranti
दोस्ती
दोस्ती
Mukesh Kumar Sonkar
घर के किसी कोने में
घर के किसी कोने में
आकांक्षा राय
मैं अपने दिल की रानी हूँ
मैं अपने दिल की रानी हूँ
Dr Archana Gupta
सुविचार
सुविचार
Sarika Dhupar
मौन अधर होंगे
मौन अधर होंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
2931.*पूर्णिका*
2931.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सफल सारथी  अश्व की,
सफल सारथी अश्व की,
sushil sarna
बुद्ध के बदले युद्ध
बुद्ध के बदले युद्ध
Shekhar Chandra Mitra
क्या प्यार है तुमको हमसे
क्या प्यार है तुमको हमसे
gurudeenverma198
"योगी-योगी"
*Author प्रणय प्रभात*
दानवीरता की मिशाल : नगरमाता बिन्नीबाई सोनकर
दानवीरता की मिशाल : नगरमाता बिन्नीबाई सोनकर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रार्थना के स्वर
प्रार्थना के स्वर
Suryakant Dwivedi
*रात से दोस्ती* ( 9 of 25)
*रात से दोस्ती* ( 9 of 25)
Kshma Urmila
अतीत के “टाइम मशीन” में बैठ
अतीत के “टाइम मशीन” में बैठ
Atul "Krishn"
दिल का सौदा
दिल का सौदा
सरिता सिंह
आंख मेरी ही
आंख मेरी ही
Dr fauzia Naseem shad
तो जानो आयी है होली
तो जानो आयी है होली
Satish Srijan
* बातें व्यर्थ की *
* बातें व्यर्थ की *
surenderpal vaidya
हर मौसम का अपना अलग तजुर्बा है
हर मौसम का अपना अलग तजुर्बा है
कवि दीपक बवेजा
दुनिया में कहीं नहीं है मेरे जैसा वतन
दुनिया में कहीं नहीं है मेरे जैसा वतन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पहले की अपेक्षा साहित्य और आविष्कार दोनों में गिरावट आई है।इ
पहले की अपेक्षा साहित्य और आविष्कार दोनों में गिरावट आई है।इ
Rj Anand Prajapati
Loading...