Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2016 · 1 min read

गीत मिलन के गाते ✍✍✍✍✍✍✍

युग युग से गीत मिलन के गाते रहे है.
बन सिंगार एक दूजे का सजते रहे है.

.आँखो मे प्यार की तरूणाई अधरो पर .
प्यास ओस मधु अमृत सवारते रहे है.
हम तुम गीत मिलन———————-

हम प्रेमी जन्म जन्मान्तरों का साथ निभाते रहे
पृथ्वी पर आ हम तुम लोकाचार पाठ निभाये
जन मन की अभिलाषा आशाओं को पूरा करते
हम तुम जन मन की दीवाली दीप जलाते रहेगे.

डॉ मधु त्रिवेदी

Language: Hindi
73 Likes · 301 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
चीर हरण ही सोचते,
चीर हरण ही सोचते,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2294.पूर्णिका
2294.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
निर्मोही
निर्मोही
Shekhar Chandra Mitra
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
Sakhawat Jisan
"प्यासा"प्यासा ही चला, मिटा न मन का प्यास ।
Vijay kumar Pandey
देशभक्ति
देशभक्ति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
देवा श्री गणेशा
देवा श्री गणेशा
Mukesh Kumar Sonkar
कितना लिखता जाऊँ ?
कितना लिखता जाऊँ ?
The_dk_poetry
।। अछूत ।।
।। अछूत ।।
साहित्य गौरव
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नियमानुसार कार्य ( हास्य कथा)
नियमानुसार कार्य ( हास्य कथा)
Ravi Prakash
एक सपना
एक सपना
Punam Pande
🪷पुष्प🪷
🪷पुष्प🪷
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
भुनेश्वर सिन्हा द्वारा संकलित गिरीश भईया फैंस कल्ब के वार्षिक कैलेंडर का किया गया विमोचन
भुनेश्वर सिन्हा द्वारा संकलित गिरीश भईया फैंस कल्ब के वार्षिक कैलेंडर का किया गया विमोचन
Bramhastra sahityapedia
मत फैला तू हाथ अब उसके सामने
मत फैला तू हाथ अब उसके सामने
gurudeenverma198
प्रेम सुखद एहसास।
प्रेम सुखद एहसास।
Anil Mishra Prahari
सम्मान नहीं मिलता
सम्मान नहीं मिलता
Dr fauzia Naseem shad
हुआ दमन से पार
हुआ दमन से पार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
तेवरी को विवादास्पद बनाने की मुहिम +रमेशराज
तेवरी को विवादास्पद बनाने की मुहिम +रमेशराज
कवि रमेशराज
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
Sampada
स्वार्थ
स्वार्थ
Sushil chauhan
मोबाईल नहीं
मोबाईल नहीं
Harish Chandra Pande
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
हमारे हाथ से एक सबक:
हमारे हाथ से एक सबक:
पूर्वार्थ
■ अंतर्कलह और अंतर्विरोध के साथ खुली बगगवत का लोकतांत्रिक सी
■ अंतर्कलह और अंतर्विरोध के साथ खुली बगगवत का लोकतांत्रिक सी
*Author प्रणय प्रभात*
हे कलम
हे कलम
Kavita Chouhan
'ण' माने कुच्छ नहीं
'ण' माने कुच्छ नहीं
Satish Srijan
"New year की बधाई "
Yogendra Chaturwedi
तलाश
तलाश
Shyam Sundar Subramanian
हरियाणा दिवस की बधाई
हरियाणा दिवस की बधाई
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...