Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2017 · 1 min read

(गीत) चाह तेरी मेरी आँखों मे

चाह तेरी, मेरी आँखों मे
देख सको तो पढ लेना
साँस मेरी खुद की धड़कन मे
जान सको तो सुन लेना ॥

अपने मन मंदिर मे मेरी
मूरत को तुम गढ लेना
मेरे जीवन की बगिया के
फूलों को तुम चुन लेना ।

चार कदम मै आ जाउंगा
एक कदम तुम बढ लेना
अपने सारे सपने टूटे
ख्वाब मेरे तुम बुन लेना ।

बिखरे शब्दों के मोती को
तुम अपनी लय मे जड़ लेना
सुंदर सा संगीत बनेगा
” गीत ” मेरे तुम धुन देना

गीतेश दुबे “गीत”

Language: Hindi
Tag: गीत
193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मात -पिता पुत्र -पुत्री
मात -पिता पुत्र -पुत्री
DrLakshman Jha Parimal
#शीर्षक:-बहकाना
#शीर्षक:-बहकाना
Pratibha Pandey
किसी अंधेरी कोठरी में बैठा वो एक ब्रम्हराक्षस जो जानता है सब
किसी अंधेरी कोठरी में बैठा वो एक ब्रम्हराक्षस जो जानता है सब
Utkarsh Dubey “Kokil”
నా గ్రామం
నా గ్రామం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
प्रवाह
प्रवाह
Lovi Mishra
मशीन कलाकार
मशीन कलाकार
Harish Chandra Pande
घाव मरहम से छिपाए जाते है,
घाव मरहम से छिपाए जाते है,
Vindhya Prakash Mishra
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
दिल में भी
दिल में भी
Dr fauzia Naseem shad
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
Santosh Soni
■ दोहा देव दीवाली का।
■ दोहा देव दीवाली का।
*प्रणय प्रभात*
वज़्न -- 2122 2122 212 अर्कान - फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन बह्र का नाम - बह्रे रमल मुसद्दस महज़ूफ
वज़्न -- 2122 2122 212 अर्कान - फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन बह्र का नाम - बह्रे रमल मुसद्दस महज़ूफ
Neelam Sharma
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
shabina. Naaz
चश्मे
चश्मे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
23/177.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/177.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गुमनाम राही
गुमनाम राही
AMRESH KUMAR VERMA
अतीत
अतीत
Neeraj Agarwal
* भावना में *
* भावना में *
surenderpal vaidya
वक्त के हाथों मजबूर सभी होते है
वक्त के हाथों मजबूर सभी होते है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*मनकहताआगेचल*
*मनकहताआगेचल*
Dr. Priya Gupta
सिर्फ दरवाजे पे शुभ लाभ,
सिर्फ दरवाजे पे शुभ लाभ,
नेताम आर सी
Perfection, a word which cannot be described within the boun
Perfection, a word which cannot be described within the boun
Sukoon
स्वास्थ्य बिन्दु - ऊर्जा के हेतु
स्वास्थ्य बिन्दु - ऊर्जा के हेतु
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उत्साह का नव प्रवाह
उत्साह का नव प्रवाह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"संगीत"
Dr. Kishan tandon kranti
यही सोचकर इतनी मैने जिन्दगी बिता दी।
यही सोचकर इतनी मैने जिन्दगी बिता दी।
Taj Mohammad
मौलिक विचार
मौलिक विचार
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
जज़्बा है, रौशनी है
जज़्बा है, रौशनी है
Dhriti Mishra
*हिंदी भाषा में नुक्तों के प्रयोग का प्रश्न*
*हिंदी भाषा में नुक्तों के प्रयोग का प्रश्न*
Ravi Prakash
Loading...