Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2016 · 1 min read

गीत- कि अब तो जिन्दगी जैसे अंधेरी रात है यारों

गीत- उजालों ने मुझे मारा
●●●●●●●●●●●●●●●●●●
उजालों ने मुझे मारा रुलाती बात है यारों
कि अब तो जिन्दगी जैसे अँधेरी रात है यारों

मैं’ सच्चा हूँ मगर सुन लो मुझे तुम प्यार मत करना
खुदा ने जब रुलाया है दया तुम यार मत करना
मिला जो कुछ हमें वो दर्द की सौग़ात है यारों-
कि अब तो जिन्दगी जैसे अँधेरी रात है यारों

दी’या मैं हूँ कि अंधेरा महज इक छोड़ने वाला
कहाँ होता है’ मुझसे काम कोई जोड़ने वाला
तु’म्हारे वास्ते दिल में कहाँ जज़बात है यारों-
कि अब तो जिन्दगी जैसे अँधेरी रात है यारों

गुजारे साथ लम्हों को कभी मत याद करना तुम
समय मेरे लिए अपना नहीं बरबाद करना तुम
तु’म्हारा साथ दे पाऊँ कहाँ औकात है यारों-
कि अब तो जिन्दगी जैसे अँधेरी रात है यारों

– आकाश महेशपुरी

Language: Hindi
Tag: गीत
344 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आकाश महेशपुरी
View all
You may also like:
बड़ी मछली सड़ी मछली
बड़ी मछली सड़ी मछली
Dr MusafiR BaithA
मे गांव का लड़का हु इसलिए
मे गांव का लड़का हु इसलिए
Ranjeet kumar patre
शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana जिनका जीवन समर्पित है जनसेवा के लिए आखिर कौन है शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana ?
शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana जिनका जीवन समर्पित है जनसेवा के लिए आखिर कौन है शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana ?
Bramhastra sahityapedia
प्रेम
प्रेम
पंकज कुमार कर्ण
किस के लिए संवर रही हो तुम
किस के लिए संवर रही हो तुम
Ram Krishan Rastogi
I am always in search of the
I am always in search of the "why",
Manisha Manjari
मातृभूमि तुझ्रे प्रणाम
मातृभूमि तुझ्रे प्रणाम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अपने बच्चों का नाम लिखावो स्कूल में
अपने बच्चों का नाम लिखावो स्कूल में
gurudeenverma198
किस किस्से का जिक्र
किस किस्से का जिक्र
Bodhisatva kastooriya
कांतिपति का चुनाव-रथ
कांतिपति का चुनाव-रथ
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
संजीव शुक्ल 'सचिन'
शाम सुहानी
शाम सुहानी
लक्ष्मी सिंह
आवारा पंछी / लवकुश यादव
आवारा पंछी / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
धर्म खतरे में है.. का अर्थ
धर्म खतरे में है.. का अर्थ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
संजय कुमार संजू
जनतंत्र
जनतंत्र
अखिलेश 'अखिल'
■ चुनावी साल
■ चुनावी साल
*Author प्रणय प्रभात*
पलकों की
पलकों की
हिमांशु Kulshrestha
कविता (आओ तुम )
कविता (आओ तुम )
Sangeeta Beniwal
2939.*पूर्णिका*
2939.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐💐किं विचारणीय:?💐💐
💐💐किं विचारणीय:?💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Writing Challenge- घर (Home)
Writing Challenge- घर (Home)
Sahityapedia
लोगों के अल्फाज़ ,
लोगों के अल्फाज़ ,
Buddha Prakash
*लाल हैं कुछ हरी, सावनी चूड़ियॉं (हिंदी गजल)*
*लाल हैं कुछ हरी, सावनी चूड़ियॉं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
एक एहसास
एक एहसास
Dr fauzia Naseem shad
फिर एक समस्या
फिर एक समस्या
A🇨🇭maanush
गीत गाने आयेंगे
गीत गाने आयेंगे
Er. Sanjay Shrivastava
सविता की बहती किरणें...
सविता की बहती किरणें...
Santosh Soni
मुझे नहीं नभ छूने का अभिलाष।
मुझे नहीं नभ छूने का अभिलाष।
Anil Mishra Prahari
औरत
औरत
shabina. Naaz
Loading...