Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2022 · 1 min read

गीतिका…

चलते-चलते प्यादा, वजीर बन गया।
हरएक की नज़र में, नजीर बन गया।

किस्मत पर अपनी, क्यों न करे गुमां,
वह जो रातों- रात, अमीर बन गया।

कभी-कभी यूँ भी, सँवरता है नसीब,
फट के भी दूध जैसे, पनीर बन गया।

बन ता अभ्यास से, अनगढ़ भी ज्ञानी,
लिखते-लिखते जैसे, मीर बन गया।

भाग्य भी किसी का, लेता यूँ पलटियाँ,
राजकुँवर भी हाय ! फकीर बन गया।

‘किस्मत का लिक्खा टाले से टला कब’,
वाक्या ये पत्थर की लकीर बन गया।

हर कमी का अपनी, मढ़े और पर दोष
इन्सां का तो बस ये, जमीर बन गया।

खपा न जान ‘सीमा’, आस में सुखों की,
ग़म सदा को तेरी, तकदीर बन गया।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद (उ.प्र)
“मनके मेरे मन के” से

4 Likes · 198 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
23/84.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/84.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अपनों को थोड़ासा समझो तो है ये जिंदगी..
अपनों को थोड़ासा समझो तो है ये जिंदगी..
'अशांत' शेखर
अब किसे बरबाद करोगे gazal/ghazal By Vinit Singh Shayar
अब किसे बरबाद करोगे gazal/ghazal By Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
Rajesh vyas
#रोज़मर्रा
#रोज़मर्रा
*Author प्रणय प्रभात*
Miracles in life are done by those who had no other
Miracles in life are done by those who had no other "options
Nupur Pathak
प्रेम
प्रेम
Sushmita Singh
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
gurudeenverma198
सूरज का टुकड़ा...
सूरज का टुकड़ा...
Santosh Soni
कौशल
कौशल
Dinesh Kumar Gangwar
अधूरा घर
अधूरा घर
Kanchan Khanna
क्या कहूँ
क्या कहूँ
Ajay Mishra
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
जगदीश शर्मा सहज
शासक सत्ता के भूखे हैं
शासक सत्ता के भूखे हैं
DrLakshman Jha Parimal
💞 रंगोत्सव की शुभकामनाएं 💞
💞 रंगोत्सव की शुभकामनाएं 💞
Dr Manju Saini
बातों - बातों में छिड़ी,
बातों - बातों में छिड़ी,
sushil sarna
लम्हे
लम्हे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गुरुकुल स्थापित हों अगर,
गुरुकुल स्थापित हों अगर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दर्द आँखों में आँसू  बनने  की बजाय
दर्द आँखों में आँसू बनने की बजाय
शिव प्रताप लोधी
"पापा की परी"
Yogendra Chaturwedi
मकरंद
मकरंद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
उसकी सूरत देखकर दिन निकले तो कोई बात हो
उसकी सूरत देखकर दिन निकले तो कोई बात हो
Dr. Shailendra Kumar Gupta
"वो लॉक डाउन"
Dr. Kishan tandon kranti
!! चहक़ सको तो !!
!! चहक़ सको तो !!
Chunnu Lal Gupta
मंजिल तक पहुंचने
मंजिल तक पहुंचने
Dr.Rashmi Mishra
जो गगन जल थल में है सुख धाम है।
जो गगन जल थल में है सुख धाम है।
सत्य कुमार प्रेमी
चाहती हूं मैं
चाहती हूं मैं
Divya Mishra
सत्कर्म करें
सत्कर्म करें
Sanjay ' शून्य'
*सबसे अच्छे मूर्ख हैं, जग से बेपरवाह (हास्य कुंडलिया)*
*सबसे अच्छे मूर्ख हैं, जग से बेपरवाह (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...