Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 8, 2016 · 1 min read

गीतिका

बेख़ौफ़ दिल की धड़कन, बेख़ौफ़ लव हमारे ।
हम तुम पे मर मिटे हैं, खुश हैं सभी नज़ारे ।

कोई उन्हें बता दे, तिरछी नज़र हटालें,
नादान हैं बेचारे, समझे नहीं इशारे ।

कितनी करी थी कोशिश, कितने दबाब ड़ाले,
दिल यूँ जुड़े हैं दिल से, बेकार जतन सारे ।

मंदिर कि मस्ज़िदों के, रब मिल सभी संभालें,
इंसां जो मुहब्बत में, जीते कभी न हारे ।

बेशक उन्हें यकीं हो, बेशक वो कहर ढ़ालें,
‘ रवि ‘ यह कहे जहाँ से, हम हो गये तुम्हारे ।

143 Views
You may also like:
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
श्री राम ने
Vishnu Prasad 'panchotiya'
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
Sanjay Narayan
भारत
Vijaykumar Gundal
सृजन
Prakash Chandra
आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गुफ़्तगू का ढंग आना चाहिए
अश्क चिरैयाकोटी
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
प्यारा भारत
AMRESH KUMAR VERMA
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रास्ता
Anamika Singh
✍️अश्क़ का खारा पानी ✍️
"अशांत" शेखर
*स्मृति डॉ. उर्मिलेश*
Ravi Prakash
हास्य-व्यंग्य
Sadanand Kumar
चल-चल रे मन
Anamika Singh
पिता भगवान का अवतार होता है।
Taj Mohammad
हम पर्यावरण को भूल रहे हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरे हाथो में सदा... तेरा हाथ हो..
Dr. Alpa H. Amin
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
मंजिल की उड़ान
AMRESH KUMAR VERMA
पिता
पूनम झा 'प्रथमा'
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
रेशमी रुमाल पर विवाह गीत (सेहरा) छपा था*
Ravi Prakash
पिता
Madhu Sethi
*कथावाचक श्री राजेंद्र प्रसाद पांडेय 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
खोकर के अपनो का विश्वास...। (भाग -1)
Buddha Prakash
गुरूर का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
.✍️वो पलाश के फूल...!✍️
"अशांत" शेखर
मिटटी
Vikas Sharma'Shivaaya'
Loading...