Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2016 · 1 min read

गीतिका

बेख़ौफ़ दिल की धड़कन, बेख़ौफ़ लव हमारे ।
हम तुम पे मर मिटे हैं, खुश हैं सभी नज़ारे ।

कोई उन्हें बता दे, तिरछी नज़र हटालें,
नादान हैं बेचारे, समझे नहीं इशारे ।

कितनी करी थी कोशिश, कितने दबाब ड़ाले,
दिल यूँ जुड़े हैं दिल से, बेकार जतन सारे ।

मंदिर कि मस्ज़िदों के, रब मिल सभी संभालें,
इंसां जो मुहब्बत में, जीते कभी न हारे ।

बेशक उन्हें यकीं हो, बेशक वो कहर ढ़ालें,
‘ रवि ‘ यह कहे जहाँ से, हम हो गये तुम्हारे ।

345 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कभी न खत्म होने वाला यह समय
कभी न खत्म होने वाला यह समय
प्रेमदास वसु सुरेखा
मजदूर।
मजदूर।
Anil Mishra Prahari
प्रसाद का पूरा अर्थ
प्रसाद का पूरा अर्थ
Radhakishan R. Mundhra
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जमाने में
जमाने में
manjula chauhan
నేటి ప్రపంచం
నేటి ప్రపంచం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
"जब आपका कोई सपना होता है, तो
Manoj Kushwaha PS
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तेरी महबूबा बनना है मुझे
तेरी महबूबा बनना है मुझे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
💐प्रेम कौतुक-260💐
💐प्रेम कौतुक-260💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
यह रंगीन मतलबी दुनियां
यह रंगीन मतलबी दुनियां
कार्तिक नितिन शर्मा
माँ...की यादें...।
माँ...की यादें...।
Awadhesh Kumar Singh
आज सर ढूंढ रहा है फिर कोई कांधा
आज सर ढूंढ रहा है फिर कोई कांधा
Vijay Nayak
जो किसी से
जो किसी से
Dr fauzia Naseem shad
2882.*पूर्णिका*
2882.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उसको भी प्यार की ज़रूरत है
उसको भी प्यार की ज़रूरत है
Aadarsh Dubey
" महक संदली "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
शिवरात्रि
शिवरात्रि
ऋचा पाठक पंत
।। परिधि में रहे......।।
।। परिधि में रहे......।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
आज हमने सोचा
आज हमने सोचा
shabina. Naaz
बात
बात
Ajay Mishra
मुझे प्रीत है वतन से, मेरी जान है तिरंगा
मुझे प्रीत है वतन से, मेरी जान है तिरंगा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मगर मासूम बच्चे हैं( मुक्तक )
मगर मासूम बच्चे हैं( मुक्तक )
Ravi Prakash
* सुखम् दुखम *
* सुखम् दुखम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम्हीं हो
तुम्हीं हो
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
मेरे राम
मेरे राम
Prakash Chandra
"आत्म-निर्भरता"
*Author प्रणय प्रभात*
विश्वास
विश्वास
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
"पैसा"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...