Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2024 · 1 min read

गिरें पत्तों की परवाह कौन करें

गिरें पत्तों की परवाह कौन करें
भला पतझड़ की चाह कौन करें

– सुकेश

104 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
*करो योग-व्यायाम, दाल-रोटी नित खाओ (कुंडलिया)*
*करो योग-व्यायाम, दाल-रोटी नित खाओ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
परिश्रम
परिश्रम
ओंकार मिश्र
पूरा पूरा हिसाब है जनाब
पूरा पूरा हिसाब है जनाब
shabina. Naaz
हसरतों की भी एक उम्र होनी चाहिए।
हसरतों की भी एक उम्र होनी चाहिए।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
शहीद की अंतिम यात्रा
शहीद की अंतिम यात्रा
Nishant Kumar Mishra
मां तुम बहुत याद आती हो
मां तुम बहुत याद आती हो
Mukesh Kumar Sonkar
स्वयं पर नियंत्रण रखना
स्वयं पर नियंत्रण रखना
Sonam Puneet Dubey
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
शिव प्रताप लोधी
किस्मत की लकीरों पे यूं भरोसा ना कर
किस्मत की लकीरों पे यूं भरोसा ना कर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
बात खो गई
बात खो गई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
हर दिन माँ के लिए
हर दिन माँ के लिए
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
वस्रों से सुशोभित करते तन को, पर चरित्र की शोभा रास ना आये।
वस्रों से सुशोभित करते तन को, पर चरित्र की शोभा रास ना आये।
Manisha Manjari
द्वंद्वात्मक आत्मा
द्वंद्वात्मक आत्मा
पूर्वार्थ
"मेरे हमसफर"
Ekta chitrangini
पिता का गीत
पिता का गीत
Suryakant Dwivedi
" नई चढ़ाई चढ़ना है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
साधक
साधक
सतीश तिवारी 'सरस'
पापियों के हाथ
पापियों के हाथ
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
जनक देश है महान
जनक देश है महान
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कैसा
कैसा
Ajay Mishra
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
Shweta Soni
कृष्ण जी के जन्म का वर्णन
कृष्ण जी के जन्म का वर्णन
Ram Krishan Rastogi
शमा से...!!!
शमा से...!!!
Kanchan Khanna
निर्मल निर्मला
निर्मल निर्मला
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आसमाँ .......
आसमाँ .......
sushil sarna
93. ये खत मोहब्बत के
93. ये खत मोहब्बत के
Dr. Man Mohan Krishna
2773. *पूर्णिका*
2773. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेटियां देखती स्वप्न जो आज हैं।
बेटियां देखती स्वप्न जो आज हैं।
surenderpal vaidya
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Loading...