Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2023 · 1 min read

गाली भरी जिंदगी

जो लोग अपना मुँह पवित्र बनाए रखने की वकालत करते हैं, अच्छा करते हैं। वैसे, यथार्थतः वे कितना पवित्र रख पाते हैं अपने मुख को, पता नहीं!

मग़र मैं तो उस आदमी को गाली देने में यक़ीन रखता हूँ जो इंसान बनने के लिए तैयार नहीं है।

वैसी व्यवस्था और व्यक्ति को नियमपूर्वक गाली देना चाहता हूँ जिनके चलते हम दलितों की ज़िंदगी ही गाली बनी हुई है।

Language: Hindi
118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
नया  साल  नई  उमंग
नया साल नई उमंग
राजेंद्र तिवारी
🩸🔅🔅बिंदी🔅🔅🩸
🩸🔅🔅बिंदी🔅🔅🩸
Dr. Vaishali Verma
Happy Mother's Day ❤️
Happy Mother's Day ❤️
NiYa
मसला ये नहीं कि कोई कविता लिखूं ,
मसला ये नहीं कि कोई कविता लिखूं ,
Manju sagar
गल्प इन किश एण्ड मिश
गल्प इन किश एण्ड मिश
प्रेमदास वसु सुरेखा
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश हो जाना।
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश हो जाना।
सत्य कुमार प्रेमी
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
अरशद रसूल बदायूंनी
पेड़
पेड़
Kanchan Khanna
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
The_dk_poetry
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
Dr. Kishan Karigar
दो रुपए की चीज के लेते हैं हम बीस
दो रुपए की चीज के लेते हैं हम बीस
महेश चन्द्र त्रिपाठी
अदाकारी
अदाकारी
Suryakant Dwivedi
మంత్రాలయము మహా పుణ్య క్షేత్రము
మంత్రాలయము మహా పుణ్య క్షేత్రము
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
अभी कुछ बरस बीते
अभी कुछ बरस बीते
shabina. Naaz
सीख
सीख
Ashwani Kumar Jaiswal
लेकिन क्यों
लेकिन क्यों
Dinesh Kumar Gangwar
आखिर कब तक
आखिर कब तक
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
खुला आसमान
खुला आसमान
Surinder blackpen
लोग जाम पीना सीखते हैं
लोग जाम पीना सीखते हैं
Satish Srijan
अगले बरस जल्दी आना
अगले बरस जल्दी आना
Kavita Chouhan
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
Ravi Yadav
नव प्रस्तारित छंद -- हरेम्ब
नव प्रस्तारित छंद -- हरेम्ब
Sushila joshi
■ प्रणय_गीत:-
■ प्रणय_गीत:-
*Author प्रणय प्रभात*
हमें जीना सिखा रहे थे।
हमें जीना सिखा रहे थे।
Buddha Prakash
शौक करने की उम्र मे
शौक करने की उम्र मे
KAJAL NAGAR
अफसाने
अफसाने
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
जीवन दर्शन मेरी नज़र से. .
जीवन दर्शन मेरी नज़र से. .
Satya Prakash Sharma
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अमृता प्रीतम
अमृता प्रीतम
Dr fauzia Naseem shad
Loading...