Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

गांव और वसंत

गांव और वसंत –

सुन गांव कि गोरी तू बड़ी भोली बहती वासंती वयार अभिलाषा गहराई उफान।।

सुन गांव की गोरी हृदय हर्ष सेअनजान तेरी सादगी कोमलता तेरी पहचान।।

गाँव तेरा जैसे इंद्र देव निवास लहलाते खेत खिलहान प्रसन्न प्रफुल्लित किसान वसंत कि बान।।

मुर्झाए चेहरों भी खिल उठते आने वाली खुशियो का आभास झूमती खेतो में बाली पीले फूल सरसो के वसंत मान।।

जीवन जीवंत वसंत का भान माँ सरस्वती कि बेटी जैसी बैभव कि देवी जैसी वसंत बैभव अभिमान।।

सतरंगी होली कि मस्ती गांव गलियों कि हस्ती बूढ़ा नही दिखे अब कोई हर जीवन जवान।।

वसंत की शान सुबह सूरज के संग बहती मंद बयार प्रकृति त्यागती वर्ष पुराने परिधान।।

वसंत ऋतु मात्र नहीं जीवन उत्सव उत्साह उद्भव उद्गम संचार
पवन पर्व कि आहट मानव खुशियों का प्रवाह।।

रंग वसंती धीरे धीरे बढ़ता चढ़ता मानव हृदय स्पंदित करता नैसर्गिक खुशियों का वसंत वरदान।।

Language: Hindi
71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
नच ले,नच ले,नच ले, आजा तू भी नच ले
नच ले,नच ले,नच ले, आजा तू भी नच ले
gurudeenverma198
.......*तु खुदकी खोज में निकल* ......
.......*तु खुदकी खोज में निकल* ......
Naushaba Suriya
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
भरम
भरम
Shyam Sundar Subramanian
जब  भी  तू  मेरे  दरमियाँ  आती  है
जब भी तू मेरे दरमियाँ आती है
Bhupendra Rawat
*Dr Arun Kumar shastri*
*Dr Arun Kumar shastri*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
Neelam Sharma
होलिडे-होली डे / MUSAFIR BAITHA
होलिडे-होली डे / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
गाँधी हमेशा जिंदा है
गाँधी हमेशा जिंदा है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*रियासत रामपुर और राजा रामसिंह : कुछ प्रश्न*
*रियासत रामपुर और राजा रामसिंह : कुछ प्रश्न*
Ravi Prakash
आओ चलें नर्मदा तीरे
आओ चलें नर्मदा तीरे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
तुम याद आये !
तुम याद आये !
Ramswaroop Dinkar
गौतम बुद्ध के विचार --
गौतम बुद्ध के विचार --
Seema Garg
क्या होगा कोई ऐसा जहां, माया ने रचा ना हो खेल जहां,
क्या होगा कोई ऐसा जहां, माया ने रचा ना हो खेल जहां,
Manisha Manjari
#सामयिक_गीत :-
#सामयिक_गीत :-
*प्रणय प्रभात*
आदमी बेकार होता जा रहा है
आदमी बेकार होता जा रहा है
हरवंश हृदय
चित्रकार उठी चिंकारा बनी किस के मन की आवाज बनी
चित्रकार उठी चिंकारा बनी किस के मन की आवाज बनी
प्रेमदास वसु सुरेखा
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
Neha
घट -घट में बसे राम
घट -घट में बसे राम
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
रूप कुदरत का
रूप कुदरत का
surenderpal vaidya
वैवाहिक चादर!
वैवाहिक चादर!
कविता झा ‘गीत’
2403.पूर्णिका
2403.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
लिख दो किताबों पर मां और बापू का नाम याद आए तो पढ़ो सुबह दोप
लिख दो किताबों पर मां और बापू का नाम याद आए तो पढ़ो सुबह दोप
★ IPS KAMAL THAKUR ★
इश्क में तेरे
इश्क में तेरे
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
बूढ़ी मां
बूढ़ी मां
Sûrëkhâ
"याद रहे"
Dr. Kishan tandon kranti
सत्य मिलता कहाँ है?
सत्य मिलता कहाँ है?
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
"आओ हम सब मिल कर गाएँ भारत माँ के गान"
Lohit Tamta
अंतरात्मा की आवाज
अंतरात्मा की आवाज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
श्रीकृष्ण
श्रीकृष्ण
Raju Gajbhiye
Loading...