Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

मस्ती के आलम का इक नाता हूँ|
मैं तो दिल के भावों को गाता हूँ|

रातों को आँखों में आँसू लेकर,
यादों का पट मैं भीगों जाता हूँ|

जीने मरने की तैयारी कैसी,
जब यूँ ही सबसे मैं मिल अाता हूँ|

ये मेरे अरमानों की बस्ती है,
तन्हा लोगों को अक्सर भाता हूँ|

मेरी चाहत चुभती है खंजर सी,
जिनको यादों के घर में पाता हूँ|

दिल की लहरों को है मेरा सजदा,
आलोकित हो सब कुछ अपनाता हूँ|

अपनों के बिन गम भर कर ह्रदय में,
मैं अक्सर ही व्याकुल हो जाता हूँ|

हँस-हँस कर तो सब कुछ कहता रहता,
फिर अंतस में अपने खो जाता हूँ|

सुन कर अपने ही दिल की बातों को,
यादों का सारा जग बिसराता हूँ||
©अतुल कुमार यादव.

286 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी सरलता की सीमा कोई नहीं जान पाता
मेरी सरलता की सीमा कोई नहीं जान पाता
Pramila sultan
पैगाम डॉ अंबेडकर का
पैगाम डॉ अंबेडकर का
Buddha Prakash
ऋतु सुषमा बसंत
ऋतु सुषमा बसंत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ऐ मौत
ऐ मौत
Ashwani Kumar Jaiswal
दूर क्षितिज तक जाना है
दूर क्षितिज तक जाना है
Neerja Sharma
मेरे पापा
मेरे पापा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नित तेरी पूजा करता मैं,
नित तेरी पूजा करता मैं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सलाह
सलाह
श्याम सिंह बिष्ट
धूल में नहाये लोग
धूल में नहाये लोग
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
Anand Kumar
आहिस्ता आहिस्ता मैं अपने दर्द मे घुलने लगा हूँ ।
आहिस्ता आहिस्ता मैं अपने दर्द मे घुलने लगा हूँ ।
Ashwini sharma
हम साथ साथ चलेंगे
हम साथ साथ चलेंगे
Kavita Chouhan
एक ठोकर क्या लगी..
एक ठोकर क्या लगी..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
एक छोरी काळती हमेशा जीव बाळती,
एक छोरी काळती हमेशा जीव बाळती,
प्रेमदास वसु सुरेखा
शृंगार छंद
शृंगार छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वक़्त है तू
वक़्त है तू
Dr fauzia Naseem shad
कीच कीच
कीच कीच
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
फीका त्योहार !
फीका त्योहार !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
गुलामी के कारण
गुलामी के कारण
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
2599.पूर्णिका
2599.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रुपयों लदा पेड़ जो होता ,
रुपयों लदा पेड़ जो होता ,
Vedha Singh
मेरी बेटियाँ
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
रमेशराज के दस हाइकु गीत
रमेशराज के दस हाइकु गीत
कवि रमेशराज
*तो कुछ बात बन जाए (मुक्तक)*
*तो कुछ बात बन जाए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
किसी आंख से आंसू टपके दिल को ये बर्दाश्त नहीं,
किसी आंख से आंसू टपके दिल को ये बर्दाश्त नहीं,
*Author प्रणय प्रभात*
संकट..
संकट..
Sushmita Singh
"सुगर"
Dr. Kishan tandon kranti
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
gurudeenverma198
Loading...