Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

मस्ती के आलम का इक नाता हूँ|
मैं तो दिल के भावों को गाता हूँ|

रातों को आँखों में आँसू लेकर,
यादों का पट मैं भीगों जाता हूँ|

जीने मरने की तैयारी कैसी,
जब यूँ ही सबसे मैं मिल अाता हूँ|

ये मेरे अरमानों की बस्ती है,
तन्हा लोगों को अक्सर भाता हूँ|

मेरी चाहत चुभती है खंजर सी,
जिनको यादों के घर में पाता हूँ|

दिल की लहरों को है मेरा सजदा,
आलोकित हो सब कुछ अपनाता हूँ|

अपनों के बिन गम भर कर ह्रदय में,
मैं अक्सर ही व्याकुल हो जाता हूँ|

हँस-हँस कर तो सब कुछ कहता रहता,
फिर अंतस में अपने खो जाता हूँ|

सुन कर अपने ही दिल की बातों को,
यादों का सारा जग बिसराता हूँ||
©अतुल कुमार यादव.

180 Views
You may also like:
एक दूजे के लिए हम ही सहारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
!!!!!! नवरात्रि का त्यौहार !!!!!
जगदीश लववंशी
✍️मुझे मेरी कमी रही✍️
'अशांत' शेखर
ऐसे हंसते रहो(14 नवम्बर बाल दिवस पर)
gurudeenverma198
'संज्ञा'
पंकज कुमार कर्ण
क्युकी ..... जिंदगी है
Seema 'Tu hai na'
यारो जब भी वो बोलेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"मेरे पापा "
Usha Sharma
काँटों का दामन हँस के पकड़ लो
VINOD KUMAR CHAUHAN
फूल तो सारे जहां को अच्छा लगा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
*खुशियों का दीपोत्सव आया* 
Deepak Kumar Tyagi
#जातिबाद_बयाना
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
आशाओं की बस्ती
सूर्यकांत द्विवेदी
नियमित दिनचर्या
AMRESH KUMAR VERMA
मुक्तक
AJAY PRASAD
" सरोज "
Dr Meenu Poonia
"शिवाजी गुरु समर्थ रामदास स्वामी"✨
Pravesh Shinde
इस तरह से
Dr fauzia Naseem shad
वो मेरा हो नहीं सकता
dks.lhp
“ राजा और प्रजा ”
DESH RAJ
पवित्रता की प्रतिमूर्ति : सैनिक शिवराज बहादुर सक्सेना*
Ravi Prakash
नोटबंदी ने खुश कर दिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तुम्हारा ध्यान कहाँ है.....
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
इश्क में बेचैनियाँ बेताबियाँ बहुत हैं।
Taj Mohammad
आग से खेलने की हिम्मत
Shekhar Chandra Mitra
प्रतिभाओं को मत काटो,आरक्षण की तलवारों से
Ram Krishan Rastogi
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
मदार चौक
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
आखरी उत्तराधिकारी
Prabhudayal Raniwal
सावन आया
HindiPoems ByVivek
Loading...