Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

ग़ज़ल सगीर

उम्र के मोड़ पे इस पीर का रोना आया।
अब बुढ़ापे में इस तकदीर पे रोना आया।
❤️
काम था जिसको मिला मुल्क की हिफाज़त का।
उसकी टूटी हुई शमशीर पे रोना आया।
❤️
सारे रिश्तों को भुला रखा था जिसकी खा़तिर।
अब बुढ़ापे में उस जागीर पे रोना आया।
❤️
मुंतज़िर हो के गुजा़रा है मैंने लम्हों को।
लौट कर आया तो ताखी़र पे रोना आया।
❤️
जो मुझे छोड़ गया है यहां पागल कह कर।
ऐ “सगी़र” उसकी इस तक़सीर पे रोना आया।
❤️❤️❤️❤️❤️
शब्दार्थ_
हिफाजत= सुरक्षा
शमशीर= तलवार
मुंतजिर= इंतजार,
ताखी़र= देरी
तक़सीर = भूल चूक

Language: Hindi
77 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"धीरे-धीरे"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं एक फरियाद लिए बैठा हूँ
मैं एक फरियाद लिए बैठा हूँ
Bhupendra Rawat
चमकते तारों में हमने आपको,
चमकते तारों में हमने आपको,
Ashu Sharma
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रेम का वक़ात
प्रेम का वक़ात
भरत कुमार सोलंकी
"किस किस को वोट दूं।"
Dushyant Kumar
कट्टर ईमानदार हूं
कट्टर ईमानदार हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कविता
कविता
Bodhisatva kastooriya
02/05/2024
02/05/2024
Satyaveer vaishnav
कुतूहल आणि जिज्ञासा
कुतूहल आणि जिज्ञासा
Shyam Sundar Subramanian
*प्रिया किस तर्क से*
*प्रिया किस तर्क से*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
देर तक मैंने
देर तक मैंने
Dr fauzia Naseem shad
मां महागौरी
मां महागौरी
Mukesh Kumar Sonkar
रंगों का महापर्व होली
रंगों का महापर्व होली
इंजी. संजय श्रीवास्तव
वनमाली
वनमाली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ऐसा कहा जाता है कि
ऐसा कहा जाता है कि
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
हम यथार्थ सत्य को स्वीकार नहीं कर पाते हैं
हम यथार्थ सत्य को स्वीकार नहीं कर पाते हैं
Sonam Puneet Dubey
*परवरिश की उड़ान* ( 25 of 25 )
*परवरिश की उड़ान* ( 25 of 25 )
Kshma Urmila
जल प्रदूषण पर कविता
जल प्रदूषण पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
"प्यासा" "के गजल"
Vijay kumar Pandey
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
सत्य कुमार प्रेमी
इस जग में है प्रीत की,
इस जग में है प्रीत की,
sushil sarna
सपने देखने से क्या होगा
सपने देखने से क्या होगा
नूरफातिमा खातून नूरी
दर्द ना अश्कों का है ना ही किसी घाव का है.!
दर्द ना अश्कों का है ना ही किसी घाव का है.!
शेखर सिंह
यार
यार
अखिलेश 'अखिल'
**** फागुन के दिन आ गईल ****
**** फागुन के दिन आ गईल ****
Chunnu Lal Gupta
*कभी लगता है : तीन शेर*
*कभी लगता है : तीन शेर*
Ravi Prakash
#दोहा (आस्था)
#दोहा (आस्था)
*प्रणय प्रभात*
वैसा न रहा
वैसा न रहा
Shriyansh Gupta
Loading...