Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 12, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल :– ये नीर नहीं इन आँखों के !!

ग़ज़ल –: ये नीर नही इन आखों के !!
:– अनुज तिवारी “इन्दवार”

हम डूब रहे मझधारे पर मुश्किल से भरे किनारे है !
ये नीर नही हैं आखों के ये तो गिरते अन्गारे हैं !!

हँस कर पार किये थे हम बडे-बडे तूफानो को !
अपनो ने जख्मी किये हर लम्हे यहां गवारे हैं!!

आज भँवर मे फसे-फसे हम चीख रहे चिल्ला रहे !
बचना शायद मुश्किल होगा ये नफरत के गलियारे है !!

समझ रहे थे जैसे सावन शीतल निर्मल मनभावन !
ये तपती तेज दुपहरी मे ज्वाला की बौछारें है !!

नातों के नाजुक ये बंधन ढह ना जाये ठोकर से !
जरा सम्हल कर रहना तुम ये सीसे की दीवारे हैं !!

335 Views
You may also like:
लौटे स्वर्णिम दौर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
टिप्पणियों ( कमेंट्स) का फैशन या शोर
ओनिका सेतिया 'अनु '
नुमाइशों का दौर है।
Taj Mohammad
हवा के झोंको में जुल्फें बिखर जाती हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
सलाम
Shriyansh Gupta
अनोखा गुलाब (“माँ भारती ”)
DESH RAJ
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
Heart Wishes For The Wave.
Manisha Manjari
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
जिन्दगी से क्या मिला
Anamika Singh
अभी तुम करलो मनमानियां।
Taj Mohammad
✍️इश्तिराक✍️
"अशांत" शेखर
तिलका छंद "युद्ध"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
नववर्ष का संकल्प
DESH RAJ
जुल्म की इन्तहा
DESH RAJ
गीत... हो रहे हैं लोग
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
वैश्या का दर्द भरा दास्तान
Anamika Singh
*ओ भोलेनाथ जी* "अरदास"
Shashi kala vyas
हे मात जीवन दायिनी नर्मदे हर नर्मदे हर नर्मदे हर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ईद में खिलखिलाहट
Dr. Kishan Karigar
आईने की तरह मैं तो बेजान हूँ
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
बसन्त बहार
N.ksahu0007@writer
शाइ'राना है तबीयत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
**अनमोल मोती**
Dr. Alpa H. Amin
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नर्सिंग दिवस पर नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
स्वादिष्ट खीर
Buddha Prakash
*श्री प्रदीप कुमार बंसल उर्फ मुन्ना बंसल की याद*
Ravi Prakash
मेरे पापा...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
💝 जोश जवानी आये हाये 💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...