Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

ग़ज़ल/नज़्म – हुस्न से तू तकरार ना कर

हुस्न से तू तकरार ना कर,
रुसवा सरे बाजार ना कर।

इश्क़ आग है ख़तरनाक बड़ी,
इसमें घी की बौछार ना कर।

कुछ कारण होगा बेवफ़ाई का,
अपनी वफ़ा का ख़ुमार ना कर।

कितना पाया कितना खोया,
खबरों में इसे शुमार ना कर।

प्यार झीने पर्दे में ही अच्छा,
दिखावा सरे संसार ना कर।

इश्क़ का ओर है ना छोर है,
इस पर कोई दीवार ना कर।

प्यार माँगने से मिला है कब,
इसकी तू दरकार ना कर।

किस्सों में आए नाम तेरा भी,
पहले से ही सरेबाज़ार ना कर।

दिल अहसासों का है मिलन,
दिमाग़ से तू इज़हार ना कर।

इश्क़ का मोल बड़ा है ‘अनिल’
इसको तू ख़ाकसार ना कर।

(खुमार = नशा, घमण्ड ।
(शुमार = हिसाब, लेखा, संख्या ।)
(दरकार = अपेक्षा, आवश्यकता)
(सरेबाज़ार = खुले आम, सबके सामने)
(इज़हार = जाहिर या प्रकट करना, निवेदन करना)
(ख़ाकसार = तुच्छ, दीन, नाचीज़)

©✍️स्वरचित
अनिल कुमार ‘अनिल’
9783597507
9950538424
anilk1604@gmail.com

1 Like · 295 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार
View all
You may also like:
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
आविष्कार एक स्वर्णिम अवसर की तलाश है।
आविष्कार एक स्वर्णिम अवसर की तलाश है।
Rj Anand Prajapati
राम विवाह कि मेहंदी
राम विवाह कि मेहंदी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हम तो फूलो की तरह अपनी आदत से बेबस है.
हम तो फूलो की तरह अपनी आदत से बेबस है.
शेखर सिंह
जिंदगी
जिंदगी
अखिलेश 'अखिल'
कुछ पंक्तियाँ
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
मेरी जिंदगी सजा दे
मेरी जिंदगी सजा दे
Basant Bhagawan Roy
इसमें हमारा जाता भी क्या है
इसमें हमारा जाता भी क्या है
gurudeenverma198
पलकों में शबाब रखता हूँ।
पलकों में शबाब रखता हूँ।
sushil sarna
ये नयी सभ्यता हमारी है
ये नयी सभ्यता हमारी है
Shweta Soni
"टेंशन को टा-टा"
Dr. Kishan tandon kranti
धीरे धीरे  निकल  रहे  हो तुम दिल से.....
धीरे धीरे निकल रहे हो तुम दिल से.....
Rakesh Singh
#सब_त्रिकालदर्शी
#सब_त्रिकालदर्शी
*प्रणय प्रभात*
प्राचीन दोस्त- निंब
प्राचीन दोस्त- निंब
दिनेश एल० "जैहिंद"
हमारा मन
हमारा मन
surenderpal vaidya
वसुधा में होगी जब हरियाली।
वसुधा में होगी जब हरियाली।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
2585.पूर्णिका
2585.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दीया इल्म का कोई भी तूफा बुझा नहीं सकता।
दीया इल्म का कोई भी तूफा बुझा नहीं सकता।
Phool gufran
दास्ताने-इश्क़
दास्ताने-इश्क़
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सफ़र ठहरी नहीं अभी पड़ाव और है
सफ़र ठहरी नहीं अभी पड़ाव और है
Koमल कुmari
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
Kumar lalit
बुद्धि सबके पास है, चालाकी करनी है या
बुद्धि सबके पास है, चालाकी करनी है या
Shubham Pandey (S P)
वो सांझ
वो सांझ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
होने को अब जीवन की है शाम।
होने को अब जीवन की है शाम।
Anil Mishra Prahari
रात-दिन जो लगा रहता
रात-दिन जो लगा रहता
Dhirendra Singh
तौबा ! कैसा यह रिवाज
तौबा ! कैसा यह रिवाज
ओनिका सेतिया 'अनु '
एक ऐसा दोस्त
एक ऐसा दोस्त
Vandna Thakur
-आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ?-
-आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ?-
bharat gehlot
वृक्षों का रोपण करें, रहे धरा संपन्न।
वृक्षों का रोपण करें, रहे धरा संपन्न।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...