Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Sep 2016 · 1 min read

ग़ज़ल- दिल ये तेरा दास है अबतक

तू बहुत हैै दूर लेकिन पास है अबतक
सच कहूँ तो दिल ये तेरा दास है अबतक

ऐसे आँखों से पिलाया ज़ाम ऐ साक़ी
रोज पीता हूँ मगर वो प्यास है अबतक

तू कहे तो भस्म मलना छोड़ दूँगा मैं
तेरे ही खातिर लिया सन्यास है अबतक

कैसे तेरी उस गली को भूल पाऊँगा
जिस गली जिन्दा हमारी आस है अबतक

तू मिले तो शूल भी ये फूल जैसा हो
बिन तेरे मखमल भी जैसे घास है अबतक

हैं हजारों चाहने वाले मगर फिर भी
जिन्दगी मेरे लिए तू खास है अबतक

क्या कहूँ ‘आकाश’ मैंने क्या नहीं पाया
प्यार को तेरे मगर उपवास है अबतक

– आकाश महेशपुरी

4 Likes · 2 Comments · 492 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आकाश महेशपुरी
View all
You may also like:
कुछ ख़त्म करना भी जरूरी था,
कुछ ख़त्म करना भी जरूरी था,
पूर्वार्थ
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वो शख्स अब मेरा नहीं रहा,
वो शख्स अब मेरा नहीं रहा,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
【31】*!* तूफानों से क्या ड़रना? *!*
【31】*!* तूफानों से क्या ड़रना? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
विराम चिह्न
विराम चिह्न
Neelam Sharma
फूलों से।
फूलों से।
Anil Mishra Prahari
2986.*पूर्णिका*
2986.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*सर्दियों में एक टुकड़ा, धूप कैसे खाइए (हिंदी गजल)*
*सर्दियों में एक टुकड़ा, धूप कैसे खाइए (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
उम्मीदें ज़िंदगी की
उम्मीदें ज़िंदगी की
Dr fauzia Naseem shad
ਯਾਦਾਂ ਤੇ ਧੁਖਦੀਆਂ ਨੇ
ਯਾਦਾਂ ਤੇ ਧੁਖਦੀਆਂ ਨੇ
Surinder blackpen
जंग तो दिमाग से जीती जा सकती है......
जंग तो दिमाग से जीती जा सकती है......
shabina. Naaz
नाहक करे मलाल....
नाहक करे मलाल....
डॉ.सीमा अग्रवाल
एक ही दिन में पढ़ लोगे
एक ही दिन में पढ़ लोगे
हिमांशु Kulshrestha
मेरा नसीब
मेरा नसीब
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दोस्त
दोस्त
Pratibha Pandey
"परिवार एक सुखद यात्रा"
Ekta chitrangini
इस गुज़रते साल में...कितने मनसूबे दबाये बैठे हो...!!
इस गुज़रते साल में...कितने मनसूबे दबाये बैठे हो...!!
Ravi Betulwala
आधुनिक बचपन
आधुनिक बचपन
लक्ष्मी सिंह
राम - दीपक नीलपदम्
राम - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"समझदार से नासमझी की
*Author प्रणय प्रभात*
कभी- कभी
कभी- कभी
Harish Chandra Pande
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आवारगी मिली
आवारगी मिली
Satish Srijan
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
Dr Archana Gupta
*
*"गौतम बुद्ध"*
Shashi kala vyas
आप जिंदगी का वो पल हो,
आप जिंदगी का वो पल हो,
Kanchan sarda Malu
7-सूरज भी डूबता है सरे-शाम देखिए
7-सूरज भी डूबता है सरे-शाम देखिए
Ajay Kumar Vimal
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
गुप्तरत्न
💐प्रेम कौतुक-314💐
💐प्रेम कौतुक-314💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...