Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jun 9, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल :– आज़माइश नहीं करते !!

ग़ज़ल — आजमाईस नहीँ करते !!
अनुज तिवारी “इंदवार”

आशिको की कभी आजमाइस नहीं करते !
आशिकी में कोई फरमाइस नहीं करते !

इश्क कभी जज्ब-ए-जमाल नहीं होता !
इश्क में हुस्न की नुमाइस नहीं करते !!

तर्जुमान हुस्न के खामोश रहें या ना रहें !
इश्क में उम्मीद-ए-आराइस नही करते !!

2 Comments · 340 Views
You may also like:
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
इश्क
Anamika Singh
मन
शेख़ जाफ़र खान
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Meenakshi Nagar
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
Loading...