Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2016 · 1 min read

~~!!~~गर~~!!~~

~~!!~~गर~~!!~~
********************
“ग़र, साँचों में ढले
दिन-रात होते,
लफ़्जों में लरजते
ना जज़्बात होते!
ग़र, होती आरज़ू
मंजिलें, खुद-ब-खुद तराशने की,
बैठे, हाथो पे धरे
ना हाथ होते!
ग़र, होती खुशकिस्मत
ख्वाईशें, दिलों की,
यूँ गवारा
ना अपने अरमान होते!
ग़र, होती अमन-पसंद
हसरतें, हर शख्श की,
हमपर हुकूमत करते दिखते –
हम जैसे ही, इंसान ना होते!!”_______दुर्गेश वर्मा

Language: Hindi
Tag: कविता
171 Views
You may also like:
पूछ रहा है मन का दर्पण
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
राष्ट्र जाति-धर्म से उपर
Nafa Singh kadhian
कहीं मर न जाए
Seema 'Tu hai na'
अम्मा जी
Rashmi Sanjay
✍️नशा और शौक✍️
'अशांत' शेखर
ईनाम
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ना चीज़ हो गया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रामपुर महोत्सव प्रतीक चिन्ह (लोगो) प्रतियोगिता में मेरा लोगो पुरस्कृत...
Ravi Prakash
"कोरोना लहर"
MSW Sunil SainiCENA
हर रोज में पढ़ता हूं
Sushil chauhan
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
मेरी प्यारी बूढ़ी नानी ।
लक्ष्मी सिंह
★सफर ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
विद्यालय
श्री रमण 'श्रीपद्'
■ खोखलेपन की खुलती पोल!
*Author प्रणय प्रभात*
पंचशील गीत
Buddha Prakash
समय का विशिष्ट कवि
Shekhar Chandra Mitra
बंधन दो इनकार नहीं है
Dr. Girish Chandra Agarwal
* रौशनी उसकी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मसखरा कहीं सो गया
Satish Srijan
राष्ट्रकवि दिनकर दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वही ज़िंदगी में
Dr fauzia Naseem shad
कह न पाई मै,बस सोचती रही
Ram Krishan Rastogi
तितली
Manshwi Prasad
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
हर घड़ी यूँ सांस कम हो रही हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
अजब-गजब इन्सान...
डॉ.सीमा अग्रवाल
गौरवशाली राष्ट्र का गौरवशाली गणतांत्रिक इतिहास
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
चाँद
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...