Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 5, 2016 · 1 min read

~~!!~~गर~~!!~~

~~!!~~गर~~!!~~
********************
“ग़र, साँचों में ढले
दिन-रात होते,
लफ़्जों में लरजते
ना जज़्बात होते!
ग़र, होती आरज़ू
मंजिलें, खुद-ब-खुद तराशने की,
बैठे, हाथो पे धरे
ना हाथ होते!
ग़र, होती खुशकिस्मत
ख्वाईशें, दिलों की,
यूँ गवारा
ना अपने अरमान होते!
ग़र, होती अमन-पसंद
हसरतें, हर शख्श की,
हमपर हुकूमत करते दिखते –
हम जैसे ही, इंसान ना होते!!”_______दुर्गेश वर्मा

141 Views
You may also like:
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
पिता
Dr. Kishan Karigar
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Security Guard
Buddha Prakash
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्यार
Anamika Singh
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
पिता
विजय कुमार 'विजय'
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...