Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2024 · 1 min read

गर्म स्वेटर

गर्म स्वेटर
********
मेरी ठिठुरन को
दूर करने के लिए
उन के मुलायम नर्म धागे से बुनती रही
मेरे लिए गर्म स्वेटर
अलग अलग रंग
चित्रकारी के

मैं तुम्हारी आँखों में बनने वाले
धागों से बुनता रहा तुम्हारे सपने
ताकि बदले में वैसे ही प्यार की
गर्माहट तुम्हें भी मिले
रंगीन चित्रकारी भरे

न कभी शीत ॠतु ने
हमारे घर आना बंद किया
और न कभी मैंने रोका खुद को
तुम्हारी आँखों को पकड़ कर
तुम्हारे सपनों को बुनना,

शादी की पच्चीसवीं पर कह रहा हूँ
बीती 25 शीत ॠतुओं की
ठंड गवाह है
उस गर्माहट की जो तुम्हारे बुने स्वेटरों से
मुझे मिलती रही
अब चश्मे के पीछे आँखों में
वो धागे नहीं दिखते
प्रमाण है एक
एक वो सारे तुम्हारे सपने पूरे ही नहीं हुए
बल्कि वे तुम्हारे चारो ओर
खड़े मुस्करा रहें हैं
साकार होकर जीवंत ।
– अवधेश सिंह

1 Like · 36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल _ आराधना करूं मैं या मैं करूं इबादत।
ग़ज़ल _ आराधना करूं मैं या मैं करूं इबादत।
Neelofar Khan
स्नेह का बंधन
स्नेह का बंधन
Dr.Priya Soni Khare
हाथों से करके पर्दा निगाहों पर
हाथों से करके पर्दा निगाहों पर
gurudeenverma198
बिजलियों का दौर
बिजलियों का दौर
अरशद रसूल बदायूंनी
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
DrLakshman Jha Parimal
झरोखा
झरोखा
Sandeep Pande
वक़्त को गुज़र
वक़्त को गुज़र
Dr fauzia Naseem shad
*याद है  हमको हमारा  जमाना*
*याद है हमको हमारा जमाना*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
ताल्लुक अगर हो तो रूह
ताल्लुक अगर हो तो रूह
Vishal babu (vishu)
बहने दो निःशब्दिता की नदी में, समंदर शोर का मुझे भाता नहीं है
बहने दो निःशब्दिता की नदी में, समंदर शोर का मुझे भाता नहीं है
Manisha Manjari
समाजों से सियासत तक पहुंची
समाजों से सियासत तक पहुंची "नाता परम्परा।" आज इसके, कल उसके
*प्रणय प्रभात*
Sonam Puneet Dubey
Sonam Puneet Dubey
Sonam Puneet Dubey
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
Buddha Prakash
पितरों के लिए
पितरों के लिए
Deepali Kalra
बकरी
बकरी
ganjal juganoo
कहता है सिपाही
कहता है सिपाही
Vandna thakur
सिलसिला रात का
सिलसिला रात का
Surinder blackpen
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुमको कुछ दे नहीं सकूँगी
तुमको कुछ दे नहीं सकूँगी
Shweta Soni
Dad's Tales of Yore
Dad's Tales of Yore
Natasha Stephen
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
डॉ.सीमा अग्रवाल
इश्क़ में सरेराह चलो,
इश्क़ में सरेराह चलो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"वादा" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
काश यह मन एक अबाबील होता
काश यह मन एक अबाबील होता
Atul "Krishn"
हर रास्ता मुकम्मल हो जरूरी है क्या
हर रास्ता मुकम्मल हो जरूरी है क्या
कवि दीपक बवेजा
देश के वासी हैं
देश के वासी हैं
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सर्दी का उल्लास
सर्दी का उल्लास
Harish Chandra Pande
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*वैज्ञानिक विद्वान सबल है, शक्तिपुंज वह नारी है (मुक्तक )*
*वैज्ञानिक विद्वान सबल है, शक्तिपुंज वह नारी है (मुक्तक )*
Ravi Prakash
Loading...