Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2023 · 1 min read

गणतंत्र पर्व

आज है आया अवसर पावन,
आजादी की गाथा गायें।
आहुति बन गए महायज्ञ में
उन वीरों को शीश झुकाएं।

सुखदेव,भगत, बालगंगाधर,
बोष, चन्द्र शेखर आजाद,
इनके बलिदानों के कारण,
देश हमारा है आबाद।

बिस्मिल संग अशफाक खान भी,
भारत माँ का दीवाना था।
निकल पड़ा केशरिया बांधे,
आजादी को पाना था।

जिनके कारण चमन हमारा,
बहु विहगों से चहका है।
अपने लहू से सींचा तो ये
गुलशन अपना महका है।

खुशी मनाए याद रहे पर,
ऋणी देश का तन व मन।
श्रद्धा सुमन समर्पित वीरों,
तुमको शत शत बार नमन।

उनके सर की कीमत पर है,
अपनी वसुधा बनी स्वतन्त्र।
हम भारत के लोग मनाते,
तब आजादी से गणतंत्र |

अगस्त पन्द्रह आजादी दिन,
छब्बीस जनवरी को गणतंत्र।
राष्ट्र पर्व ये सांझा अपना,
राष्ट्र भक्ति है इसका मन्त्र।

सतीश सृजन, लखनऊ.

201 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
मेरे हमसफ़र ...
मेरे हमसफ़र ...
हिमांशु Kulshrestha
बाल कविता: मदारी का खेल
बाल कविता: मदारी का खेल
Rajesh Kumar Arjun
"मेरे तो प्रभु श्रीराम पधारें"
राकेश चौरसिया
"लफ़्ज़ भी आन बान होते हैं।
*Author प्रणय प्रभात*
नमन!
नमन!
Shriyansh Gupta
नशीली आंखें
नशीली आंखें
Shekhar Chandra Mitra
शब्द कम पड़ जाते हैं,
शब्द कम पड़ जाते हैं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
💐अज्ञात के प्रति-87💐
💐अज्ञात के प्रति-87💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खुशियां
खुशियां
N manglam
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
भले दिनों की बात
भले दिनों की बात
Sahil Ahmad
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
हे माधव
हे माधव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फितरत है इंसान की
फितरत है इंसान की
आकाश महेशपुरी
चलो , फिर करते हैं, नामुमकिन को मुमकिन ,
चलो , फिर करते हैं, नामुमकिन को मुमकिन ,
Atul Mishra
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
प्रीतम श्रावस्तवी
सवा सेर
सवा सेर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Image at Hajipur
Image at Hajipur
Hajipur
*पाऍं कैसे ब्रह्म को, आओ करें विचार (कुंडलिया)*
*पाऍं कैसे ब्रह्म को, आओ करें विचार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हरित - वसुंधरा।
हरित - वसुंधरा।
Anil Mishra Prahari
लोकतंत्र को मजबूत यदि बनाना है
लोकतंत्र को मजबूत यदि बनाना है
gurudeenverma198
शराब हो या इश्क़ हो बहकाना काम है
शराब हो या इश्क़ हो बहकाना काम है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
* धरा पर खिलखिलाती *
* धरा पर खिलखिलाती *
surenderpal vaidya
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
Suneel Pushkarna
23/136.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/136.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुझे अकेले ही चलने दो ,यह है मेरा सफर
मुझे अकेले ही चलने दो ,यह है मेरा सफर
कवि दीपक बवेजा
*याद  तेरी  यार  आती है*
*याद तेरी यार आती है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...