Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2017 · 1 min read

गजल आया हूँ शहर में लेके कुछ किस्से नये पुराने

आया हूँ शहर में किस्से लेकर नये पुराने
परेशां चेहरों के लबों पर लाऊंगा मुस्काने

बख्शा खुदा ने हुनर तो कुछ बेचने आया
खरीद लो मेरे कीमती प्यार भरे अफ़साने

बेचैन मस्जिद सहमे शिवाले पुकार रहे थे
आजा परिंदे कटोरी में रखे तेरे लिये दाने

कहता मैं परिंदा खुदा से ,नराज तुझसे हूँ
पर कतर के तूने मुझे बक्शी कैसी उड़ाने

मैं परिंदा पिंजरे में कब भला पला बड़ा हूँ
मेरी तबाही का रस्ता मेरे यह ठौर ठिकाने

गर्म हवा मन्दिर से तो मस्जिदे है धुँआ धुआं
तू कैसा खुदा मदहोशी में बैठा जाकर मैखाने

देख मेरी आँखें आज नम है तेरे लिए मेरे खुदा
सबके हाथ में पत्थर और अशोक पर है निशाने

अशोक सपड़ा की कलम से दिल्ली से

258 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2505.पूर्णिका
2505.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रास्ते में आएंगी रुकावटें बहुत!!
रास्ते में आएंगी रुकावटें बहुत!!
पूर्वार्थ
Right now I'm quite notorious ,
Right now I'm quite notorious ,
Sukoon
* किधर वो गया है *
* किधर वो गया है *
surenderpal vaidya
Jay prakash dewangan
Jay prakash dewangan
Jay Dewangan
हे!शक्ति की देवी दुर्गे माँ,
हे!शक्ति की देवी दुर्गे माँ,
Satish Srijan
एक दिन
एक दिन
Harish Chandra Pande
आशियाना तुम्हारा
आशियाना तुम्हारा
Srishty Bansal
"मन-मतंग"
Dr. Kishan tandon kranti
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
मायका
मायका
Mukesh Kumar Sonkar
हिंदी पखवाडा
हिंदी पखवाडा
Shashi Dhar Kumar
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
उल्लाला छंद विधान (चन्द्रमणि छन्द) सउदाहरण
उल्लाला छंद विधान (चन्द्रमणि छन्द) सउदाहरण
Subhash Singhai
* मुझे क्या ? *
* मुझे क्या ? *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खेल और राजनीती
खेल और राजनीती
'अशांत' शेखर
जिस्म से जान निकालूँ कैसे ?
जिस्म से जान निकालूँ कैसे ?
Manju sagar
चलो दो हाथ एक कर ले
चलो दो हाथ एक कर ले
Sûrëkhâ Rãthí
याद  में  ही तो जल रहा होगा
याद में ही तो जल रहा होगा
Sandeep Gandhi 'Nehal'
Maine apne samaj me aurto ko tutate dekha hai,
Maine apne samaj me aurto ko tutate dekha hai,
Sakshi Tripathi
हमने बस यही अनुभव से सीखा है
हमने बस यही अनुभव से सीखा है
कवि दीपक बवेजा
अनंतनाग में शहीद हुए
अनंतनाग में शहीद हुए
Harminder Kaur
नारी....एक सच
नारी....एक सच
Neeraj Agarwal
कोई भी मोटिवेशनल गुरू
कोई भी मोटिवेशनल गुरू
ruby kumari
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मजहब
मजहब
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आज देव दीपावली...
आज देव दीपावली...
डॉ.सीमा अग्रवाल
शबे दर्द जाती नही।
शबे दर्द जाती नही।
Taj Mohammad
कभी अंधेरे में हम साया बना हो,
कभी अंधेरे में हम साया बना हो,
goutam shaw
दर्द
दर्द
SHAMA PARVEEN
Loading...