Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jan 2024 · 1 min read

* खूब कीजिए प्यार *

** गीत **
~~
छोड़ दीजिए चिन्ता सारी, खूब कीजिए प्यार।
जीवन हो आनन्दमय, स्नेह भरा व्यवहार।

निशा बीतने पर हुई, सुन्दर स्वर्णिम भोर।
फूलों की बगिया खिली, महक उठी हर ओर।
देखो तो सजने लगा, खुशी खुशी संसार।
छोड़ दीजिए………

प्रीति लिए कोई आया है, मुखड़े पर मुस्कान।
आओ कर लें हाथ बढ़ाकर, थोड़ी सी पहचान।
धीरे धीरे स्वप्न सभी फिर, होंगे खुद साकार।
छोड़ दीजिए………

ठोकर लग जाती है जब भी, मन सहता आघात।
कभी कभी बहने लगती है, अश्कों की बरसात।
उठकर आगे बढ़ना है तब, शुभ है यही विचार।
छोड़ दीजिए……….
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, १८/०१/२०२४

1 Like · 1 Comment · 127 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
Why always me!
Why always me!
Bidyadhar Mantry
ये चांद सा महबूब और,
ये चांद सा महबूब और,
शेखर सिंह
मूर्दों की बस्ती
मूर्दों की बस्ती
Shekhar Chandra Mitra
सुना हूं किसी के दबाव ने तेरे स्वभाव को बदल दिया
सुना हूं किसी के दबाव ने तेरे स्वभाव को बदल दिया
Keshav kishor Kumar
दुख मिल गया तो खुश हूँ मैं..
दुख मिल गया तो खुश हूँ मैं..
shabina. Naaz
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"चली आ रही सांझ"
Dr. Kishan tandon kranti
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
Krishna Kumar ANANT
संकल्प
संकल्प
Vedha Singh
*** भाग्यविधाता ***
*** भाग्यविधाता ***
Chunnu Lal Gupta
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरी निगाहों मे किन गुहानों के निशां खोजते हों,
मेरी निगाहों मे किन गुहानों के निशां खोजते हों,
Vishal babu (vishu)
ना देखा कोई मुहूर्त,
ना देखा कोई मुहूर्त,
आचार्य वृन्दान्त
सामाजिक मुद्दों पर आपकी पीड़ा में वृद्धि हुई है, सोशल मीडिया
सामाजिक मुद्दों पर आपकी पीड़ा में वृद्धि हुई है, सोशल मीडिया
Sanjay ' शून्य'
जब कोई रिश्ता निभाती हूँ तो
जब कोई रिश्ता निभाती हूँ तो
Dr Manju Saini
"कौन अपने कौन पराये"
Yogendra Chaturwedi
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
Rashmi Ranjan
दादा का लगाया नींबू पेड़ / Musafir Baitha
दादा का लगाया नींबू पेड़ / Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
मिष्ठी रानी गई बाजार
मिष्ठी रानी गई बाजार
Manu Vashistha
4) “एक और मौक़ा”
4) “एक और मौक़ा”
Sapna Arora
बीती सदियाँ राम हैं , भारत के उपमान(कुंडलिया)
बीती सदियाँ राम हैं , भारत के उपमान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
"पँछियोँ मेँ भी, अमिट है प्यार..!"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
नव वर्ष
नव वर्ष
RAKESH RAKESH
परिवर्तन
परिवर्तन
Paras Nath Jha
एक दूसरे से कुछ न लिया जाए तो कैसा
एक दूसरे से कुछ न लिया जाए तो कैसा
Shweta Soni
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
छठ पूजा
छठ पूजा
Satish Srijan
"साहित्यकार और पत्रकार दोनों समाज का आइना होते है हर परिस्थि
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
#पैरोडी-
#पैरोडी-
*Author प्रणय प्रभात*
*अज्ञानी की कलम  *शूल_पर_गीत*
*अज्ञानी की कलम *शूल_पर_गीत*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
Loading...