Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 May 2016 · 1 min read

खूबसूरत धरा बना देंगे

खूबसूरत धरा बना देंगे
पेड़ों से हम इसे सजा देंगे

प्यार से देखभाल करके हम
कष्ट धरती के सब मिटा देंगे

फिर यहाँ चहचहायेंगे पंछी
फूलों से हम चमन खिला देंगे

घोलती विष यहाँ फिजाओं में
हम बुरी आदतें भुला देंगे

कीमती बूँद बूँद है जल की
पाठ बच्चों को ये पढ़ा देंगे

‘अर्चना’ खाते हैं कसम अब हम
स्वर्ग सा ये वतन बना देंगे
डॉ अर्चना गुप्ता

196 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
* मन बसेगा नहीं *
* मन बसेगा नहीं *
surenderpal vaidya
जो आपका गुस्सा सहन करके भी आपका ही साथ दें,
जो आपका गुस्सा सहन करके भी आपका ही साथ दें,
Ranjeet kumar patre
✍️यादों के पलाश में ..
✍️यादों के पलाश में ..
'अशांत' शेखर
पहला अहसास
पहला अहसास
Falendra Sahu
बचपन
बचपन
लक्ष्मी सिंह
महान् बनना सरल है
महान् बनना सरल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
कोई हुनर खुद में देखो,
कोई हुनर खुद में देखो,
Satish Srijan
बाल कविता- कौन क्या बोला?
बाल कविता- कौन क्या बोला?
आर.एस. 'प्रीतम'
परिणय प्रनय
परिणय प्रनय
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
Learn lesson and enjoy every moment, your past is just a cha
Learn lesson and enjoy every moment, your past is just a cha
Nupur Pathak
गज़ल
गज़ल
जगदीश शर्मा सहज
मैं असफल और नाकाम रहा!
मैं असफल और नाकाम रहा!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
मैं तो महज एक माँ हूँ
मैं तो महज एक माँ हूँ
VINOD CHAUHAN
#प्रभात_चिन्तन
#प्रभात_चिन्तन
*Author प्रणय प्रभात*
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
Ravi Prakash
यति यतनलाल
यति यतनलाल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विश्वास की मंजिल
विश्वास की मंजिल
Buddha Prakash
माँ की चाह
माँ की चाह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दिल से दिल तो टकराया कर
दिल से दिल तो टकराया कर
Ram Krishan Rastogi
कोयल मतवाली
कोयल मतवाली
Surinder blackpen
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
Kishore Nigam
चुन लेना राह से काँटे
चुन लेना राह से काँटे
Kavita Chouhan
*** लम्हा.....!!! ***
*** लम्हा.....!!! ***
VEDANTA PATEL
तुम और बातें।
तुम और बातें।
Anil Mishra Prahari
दोहे बिषय-सनातन/सनातनी
दोहे बिषय-सनातन/सनातनी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गीत प्यार के ही गाता रहूं ।
गीत प्यार के ही गाता रहूं ।
Rajesh vyas
खिलौने वो टूट गए, खेल सभी छूट गए,
खिलौने वो टूट गए, खेल सभी छूट गए,
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
याद आया मुझको बचपन मेरा....
याद आया मुझको बचपन मेरा....
Harminder Kaur
शेयर
शेयर
rekha mohan
Loading...