Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 May 2016 · 1 min read

खूबसूरत धरा बना देंगे

खूबसूरत धरा बना देंगे
पेड़ों से हम इसे सजा देंगे

प्यार से देखभाल करके हम
कष्ट धरती के सब मिटा देंगे

फिर यहाँ चहचहायेंगे पंछी
फूलों से हम चमन खिला देंगे

घोलती विष यहाँ फिजाओं में
हम बुरी आदतें भुला देंगे

कीमती बूँद बूँद है जल की
पाठ बच्चों को ये पढ़ा देंगे

‘अर्चना’ खाते हैं कसम अब हम
स्वर्ग सा ये वतन बना देंगे
डॉ अर्चना गुप्ता

154 Views
You may also like:
:::::::::खारे आँसू:::::::::
MSW Sunil SainiCENA
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मंज़िल
Ray's Gupta
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नव विहान: सकारात्मकता का दस्तावेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*अस्पताल का बिल (हास्य गीत)*
Ravi Prakash
क्या प्रात है !
Saraswati Bajpai
नया दौर का नया प्यार
shabina. Naaz
ग़ज़ल- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
आओ पितरों का स्मरण करें
Kavita Chouhan
अपनी मर्ज़ी के मुताबिक सब हैं
Dr fauzia Naseem shad
Only Love Remains
Manisha Manjari
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
षडयंत्रों की कमी नहीं है
सूर्यकांत द्विवेदी
अतिथि तुम कब जाओगे
Gouri tiwari
✍️Be Positive...!✍️
'अशांत' शेखर
बख़्श दी है जान मेरी, होश में क़ातिल नहीं है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मिठास- ए- ज़िन्दगी
AMRESH KUMAR VERMA
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
मन को मोह लेते हैं।
Taj Mohammad
मुझको तुम्हारा क्या भरोसा
gurudeenverma198
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
रक्षा बंधन :दोहे
Sushila Joshi
युवकों का निर्माण चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
मानुष हूं मैं या हूं कोई दरिंदा
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
माँ के लिए बेटियां
लक्ष्मी सिंह
हम भाई भाई थे
Anamika Singh
अलबेले लम्हें, दोस्तों के संग में......
Aditya Prakash
Loading...