Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2023 · 1 min read

खून के रिश्ते

खून के रिश्ते

“मम्मी-मम्मी, बड़े पापा की तबीयत अचानक से बहुत खराब हो गई है। वे खून की उल्टियां कर रहे हैं। बड़ी मम्मी जोर-जोर से रो रही हैं।” बारह वर्षीय बेटे संतोष ने अपनी मम्मी को धीरे से बताया।

“क्या कहा… खून की उल्टियां… भैय्या को… फिर से… खून की उल्टियां…।” काम से लौट कर अपने कमरे में आराम कर रहे संतोष के पिता रमेश जी बोले और तुरंत दौड़ते हुए भैय्या के घर पहुंच गए। उनके पीछे-पीछे पत्नी और बेटा संतोष भी वहां पहुंच गए। रमेश अपनी भाभी और पत्नी से तुरंत विचार-विमर्श कर अपनी कार में ही भैया-भाभी को लेकर हॉस्पिटल के लिए निकल पड़ा।

उनके जाने के बाद संतोष ने अपनी मम्मी से पूछा, “मम्मी, ये पापा को आज अचानक क्या हो गया ? परसों ही तो बड़े पापा से लड़ते-झगड़ते हुए कह रहे थे कि अब से हमारा आपसे हमेशा के लिए संबंध खत्म… आप मरते रहेंगे तो हम गंगाजल तक डालने भी नहीं आएंगे, फिर ये सब…?”

“बेटा, ये सब तुम अभी नहीं समझ सकोगे। खून के रिश्ते होते ही ऐसे हैं। संकट के समय अपने ही काम आते हैं।” मां ने प्यार से बेटे का सिर सहलाते हुए कहा।

– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Pradeep Kumar Sharma
View all
You may also like:
याद रखेंगे हम
याद रखेंगे हम
Shekhar Chandra Mitra
नहीं हूँ अब मैं
नहीं हूँ अब मैं
gurudeenverma198
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
नारी निन्दा की पात्र नहीं, वह तो नर की निर्मात्री है
नारी निन्दा की पात्र नहीं, वह तो नर की निर्मात्री है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय-  उँगली   / अँगुली
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय- उँगली / अँगुली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
नारी जीवन की धारा
नारी जीवन की धारा
Buddha Prakash
"वो ख़तावार है जो ज़ख़्म दिखा दे अपने।
*Author प्रणय प्रभात*
"Happy National Brother's Day"
Lohit Tamta
सावन आया
सावन आया
HindiPoems ByVivek
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
कविता
कविता
Sushila Joshi
हम यहाँ  इतने दूर हैं  मिलन कभी होता नहीं !
हम यहाँ इतने दूर हैं मिलन कभी होता नहीं !
DrLakshman Jha Parimal
असत्य पर सत्य की जीत
असत्य पर सत्य की जीत
VINOD KUMAR CHAUHAN
नूर का चेहरा सरापा नूर बैठी है।
नूर का चेहरा सरापा नूर बैठी है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
भारती-विश्व-भारती
भारती-विश्व-भारती
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
मां शारदे को नमन
मां शारदे को नमन
bharat gehlot
💐प्रेम कौतुक-339💐
💐प्रेम कौतुक-339💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक दिन तू भी।
एक दिन तू भी।
Taj Mohammad
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
डॉ.श्री रमण 'श्रीपद्'
क्या मेरा इंतज़ार बाक़ी है
क्या मेरा इंतज़ार बाक़ी है
Dr fauzia Naseem shad
बात चले
बात चले
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आँखों से काजल चुरा,
आँखों से काजल चुरा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Finding alternative  is not as difficult as becoming alterna
Finding alternative is not as difficult as becoming alterna
Sakshi Tripathi
*अध्यापक महोदय के ऑनलाइन स्थानांतरण हेतु प्रबंधक की अनापत्ति*
*अध्यापक महोदय के ऑनलाइन स्थानांतरण हेतु प्रबंधक की अनापत्ति*
Ravi Prakash
"एको देवः केशवो वा शिवो वा एकं मित्रं भूपतिर्वा यतिर्वा ।
Mukul Koushik
तीखा सूरज : उमेश शुक्ल के हाइकु
तीखा सूरज : उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आज का महाभारत 2
आज का महाभारत 2
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिंदगी और करार
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
Loading...