Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2016 · 1 min read

खुशियों से मिलन

चंचल मन नीली सलोनी आँखे
तेरी जुल्फे काली घटा सावन
तू पूरब की परी रानी है
तू रूमानी शाम का आगमन

जोबन हुई कच्ची कली तू
सौरभ मधु सी भरी तन
तुम शीतल हो हिम सी
हरघडी देखे तुझे मेरे नयन

कुसुम खुशबू लायी पुरवा साथ
ज़िन्दगी को हुई खुशियों से मिलन
गुनगुनाने लगा मै गीत सरगम
नाच रहा मोर बनके आज मन

सपनो सी लग रही जमीं
इन्द्रधनुष सा दिल का गगन
ज्योति से आलोकित मेरी ज़िन्दगी
प्रेम रंग में रंगी मेरे आँगन

गवाह है पूनम का चाँद
है अमिट हमारी प्रीत बंधन
दुष्यंत देख फैली हुई नूर को
मौजों छलक रहा है जीवन

Language: Hindi
408 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar Patel
View all
You may also like:
उतर चुके जब दृष्टि से,
उतर चुके जब दृष्टि से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेइंतहा इश्क़
बेइंतहा इश्क़
Shekhar Chandra Mitra
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
बस हौसला करके चलना
बस हौसला करके चलना
SATPAL CHAUHAN
” INDOLENCE VS STRENUOUS”
” INDOLENCE VS STRENUOUS”
DrLakshman Jha Parimal
कवि होश में रहें / MUSAFIR BAITHA
कवि होश में रहें / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
2837. *पूर्णिका*
2837. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🙅देखा ख़तरा, भागे सतरा (17)
🙅देखा ख़तरा, भागे सतरा (17)
*Author प्रणय प्रभात*
Things to learn .
Things to learn .
Nishant prakhar
"बेहतर है चुप रहें"
Dr. Kishan tandon kranti
अपना समझकर ही गहरे ज़ख्म दिखाये थे
अपना समझकर ही गहरे ज़ख्म दिखाये थे
'अशांत' शेखर
"अच्छी आदत रोज की"
Dushyant Kumar
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
सत्य कुमार प्रेमी
वाह-वाह क्या दाँत (हास्य कुंडलिया)
वाह-वाह क्या दाँत (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
गम खास होते हैं
गम खास होते हैं
ruby kumari
अधरों को अपने
अधरों को अपने
Dr. Meenakshi Sharma
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कर्म-धर्म
कर्म-धर्म
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
💐अज्ञात के प्रति-25💐
💐अज्ञात के प्रति-25💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम हासिल ही हो जाओ
तुम हासिल ही हो जाओ
हिमांशु Kulshrestha
बस कुछ दिन और फिर हैप्पी न्यू ईयर और सेम टू यू का ऐसा तांडव
बस कुछ दिन और फिर हैप्पी न्यू ईयर और सेम टू यू का ऐसा तांडव
Ranjeet kumar patre
मोदी जी का स्वच्छ भारत का जो सपना है
मोदी जी का स्वच्छ भारत का जो सपना है
gurudeenverma198
उसकी गली से गुजरा तो वो हर लम्हा याद आया
उसकी गली से गुजरा तो वो हर लम्हा याद आया
शिव प्रताप लोधी
जिद कहो या आदत क्या फर्क,
जिद कहो या आदत क्या फर्क,"रत्न"को
गुप्तरत्न
बिछ गई चौसर चौबीस की,सज गई मैदान-ए-जंग
बिछ गई चौसर चौबीस की,सज गई मैदान-ए-जंग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"मैं तुम्हारा रहा"
Lohit Tamta
कोमल चितवन
कोमल चितवन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
माँ का घर
माँ का घर
Pratibha Pandey
क्या मुगलों ने लूट लिया था भारत ?
क्या मुगलों ने लूट लिया था भारत ?
Shakil Alam
फ़ना
फ़ना
Atul "Krishn"
Loading...