Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2024 · 1 min read

खुला आसमान

उड़ने को सब चाहते,
इक खुला आसमान।
पगले नीचे देख ले,
सूना पड़ा श्मशान।

Language: Hindi
88 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
खुदा ने ये कैसा खेल रचाया है ,
खुदा ने ये कैसा खेल रचाया है ,
Sukoon
मेरी  हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
मेरी हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
★ IPS KAMAL THAKUR ★
कँवल कहिए
कँवल कहिए
Dr. Sunita Singh
प्रेम की कहानी
प्रेम की कहानी
इंजी. संजय श्रीवास्तव
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
■ बड़ा सवाल...
■ बड़ा सवाल...
*प्रणय प्रभात*
🌹जादू उसकी नजरों का🌹
🌹जादू उसकी नजरों का🌹
SPK Sachin Lodhi
* सत्य,
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
अफ़सोस न करो
अफ़सोस न करो
Dr fauzia Naseem shad
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेटी बेटा कह रहे, पापा दो वरदान( कुंडलिया )
बेटी बेटा कह रहे, पापा दो वरदान( कुंडलिया )
Ravi Prakash
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
Surya Barman
अगर हमारा सुख शान्ति का आधार पदार्थगत है
अगर हमारा सुख शान्ति का आधार पदार्थगत है
Pankaj Kushwaha
अंत समय
अंत समय
Vandna thakur
जून की दोपहर (कविता)
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
नियोजित शिक्षक का भविष्य
नियोजित शिक्षक का भविष्य
साहिल
मुफ़्त
मुफ़्त
नंदन पंडित
रम्मी खेलकर लोग रातों रात करोड़ पति बन रहे हैं अगर आपने भी स
रम्मी खेलकर लोग रातों रात करोड़ पति बन रहे हैं अगर आपने भी स
Sonam Puneet Dubey
एक गिलहरी
एक गिलहरी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
ख़्वाहिशें
ख़्वाहिशें
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
🌻 गुरु चरणों की धूल🌻
🌻 गुरु चरणों की धूल🌻
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
इतनी धूल और सीमेंट है शहरों की हवाओं में आजकल
इतनी धूल और सीमेंट है शहरों की हवाओं में आजकल
शेखर सिंह
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
Swami Ganganiya
मनमीत मेरे तुम हो
मनमीत मेरे तुम हो
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
तारीफ....... तुम्हारी
तारीफ....... तुम्हारी
Neeraj Agarwal
सबसे प्यारा माॅ॑ का ऑ॑चल
सबसे प्यारा माॅ॑ का ऑ॑चल
VINOD CHAUHAN
किसी को उदास देखकर
किसी को उदास देखकर
Shekhar Chandra Mitra
Loading...