Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

* खिल उठती चंपा *

** नवगीत **
~~~~~~~~~~~
खिल उठती चंपा

रोज सुबह,
खिल उठती चंपा।

इस पुण्य धरा पर होती पोषित,
खूब फैलती और फूलती।
हरियाली साड़ी धारण कर,
खड़ी खड़ी इठलाती जाती।

खिले खिले सुन्दर फूलोँ की,
जग को भेंट चढ़ाती चंपा।

हरी भरी चंपा डाली पर,
श्वेत पुष्प जंचते है खूब।
देखो जहां खड़ी है चंपा,
बिछी हुई मखमल सी दूब।

सुन्दर कोमल भावोँ को तब,
नए अर्थ दे जाती चंपा।

रजत पुष्प में स्वर्णिम आभा,
चंपा ने सूरज से पाई।
चंद्रदेव ने भी जी भरकर,
स्वच्छ चाँदनी बिखराई।

इक सुन्दर देवी सी लगती,
पावनता की मूरत चंपा।
~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य।

1 Like · 1 Comment · 95 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
माना मन डरपोक है,
माना मन डरपोक है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस
छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दुख मिल गया तो खुश हूँ मैं..
दुख मिल गया तो खुश हूँ मैं..
shabina. Naaz
बहुत दोस्त मेरे बन गये हैं
बहुत दोस्त मेरे बन गये हैं
DrLakshman Jha Parimal
दोहा छंद विधान ( दोहा छंद में )
दोहा छंद विधान ( दोहा छंद में )
Subhash Singhai
58....
58....
sushil yadav
"चढ़ती उमर"
Dr. Kishan tandon kranti
नज़्म
नज़्म
Neelofar Khan
■चंदे का धंधा■
■चंदे का धंधा■
*प्रणय प्रभात*
बेरोजगारी
बेरोजगारी
साहित्य गौरव
रमेशराज के समसामयिक गीत
रमेशराज के समसामयिक गीत
कवि रमेशराज
शिव की महिमा
शिव की महिमा
Praveen Sain
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मैंने तो बस उसे याद किया,
मैंने तो बस उसे याद किया,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तुम बस ज़रूरत ही नहीं,
तुम बस ज़रूरत ही नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तुम्ही ने दर्द दिया है,तुम्ही दवा देना
तुम्ही ने दर्द दिया है,तुम्ही दवा देना
Ram Krishan Rastogi
चंद्रयान-3
चंद्रयान-3
Mukesh Kumar Sonkar
*चाल*
*चाल*
Harminder Kaur
राह बनाएं काट पहाड़
राह बनाएं काट पहाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बाजार
बाजार
surenderpal vaidya
उनके जख्म
उनके जख्म
'अशांत' शेखर
मैं तुलसी तेरे आँगन की
मैं तुलसी तेरे आँगन की
Shashi kala vyas
राम
राम
Suraj Mehra
कर्म-धर्म
कर्म-धर्म
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
*क्रोध की गाज*
*क्रोध की गाज*
Buddha Prakash
ना मुराद फरीदाबाद
ना मुराद फरीदाबाद
ओनिका सेतिया 'अनु '
मन को आनंदित करे,
मन को आनंदित करे,
Rashmi Sanjay
घर छोड़ गये तुम
घर छोड़ गये तुम
Rekha Drolia
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अब मुझे महफिलों की,जरूरत नहीं रही
अब मुझे महफिलों की,जरूरत नहीं रही
पूर्वार्थ
Loading...