Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

खानाबदोशी का रंग

दिन रात है भागदौड़
व्यर्थ में मची है होड़
यथार्थ और भ्रम का
यह कैसा निरर्थक नृत्य
न खुशी है, न उमंग।

न हैं पवित्र मान्यताएँ
न निश्छल भावनाएँ
न सुख है, न संवेदना
क्षणभंगुर सपनों में
बदल गया जीने का ढंग।

अंतहीन हैं अभिलाषाएँ
बेमानी हैं प्रतिस्पर्धाएँ
दम घुटाती हैं हवाएँ
दिशा-दिशा में चढ़ गया
खानाबदोशी का रंग।

© हिमकर श्याम

Language: Hindi
10 Comments · 488 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी एक आज है
जिंदगी एक आज है
Neeraj Agarwal
आत्मरक्षा
आत्मरक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अगणित शौर्य गाथाएं हैं
अगणित शौर्य गाथाएं हैं
Bodhisatva kastooriya
2346.पूर्णिका
2346.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दशहरा
दशहरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
"नशा इन्तजार का"
Dr. Kishan tandon kranti
लग जाए गले से गले
लग जाए गले से गले
Ankita Patel
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
ruby kumari
✍️यादों के पलाश में ..
✍️यादों के पलाश में ..
'अशांत' शेखर
एक शाम ऐसी कभी आये, जहां हम खुद को हीं भूल जाएँ।
एक शाम ऐसी कभी आये, जहां हम खुद को हीं भूल जाएँ।
Manisha Manjari
किसी रोज मिलना बेमतलब
किसी रोज मिलना बेमतलब
Amit Pathak
नायक
नायक
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड
चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
इश्क चाँद पर जाया करता है
इश्क चाँद पर जाया करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक दिया जलाये
एक दिया जलाये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरे तात !
मेरे तात !
Akash Yadav
सोचना नहीं कि तुमको भूल गया मैं
सोचना नहीं कि तुमको भूल गया मैं
gurudeenverma198
नास्तिक
नास्तिक
ओंकार मिश्र
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ज़िंदगी का सवाल
ज़िंदगी का सवाल
Dr fauzia Naseem shad
💐अज्ञात के प्रति-84💐
💐अज्ञात के प्रति-84💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं और दर्पण
मैं और दर्पण
Seema gupta,Alwar
मैं खुद से कर सकूं इंसाफ
मैं खुद से कर सकूं इंसाफ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फिर दिल मेरा बेचैन न हो,
फिर दिल मेरा बेचैन न हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पूरनमासी चंद्रमा , फागुन का शुभ मास [कुंडलिया]*
पूरनमासी चंद्रमा , फागुन का शुभ मास [कुंडलिया]*
Ravi Prakash
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
shabina. Naaz
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...