Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2024 · 1 min read

ख़्वाहिशों को कहाँ मिलता, कोई मुक़म्मल ठिकाना है।

ख़्वाहिशों को कहाँ मिलता, कोई मुक़म्मल ठिकाना है,
अब बस अजनबी राहों पर, कहीं दूर निकल जाना है।
समंदर ने साहिलों से, तोड़ा हर रिश्ता पुराना है,
अब तो इसकी शांत गहराई हीं, मेरा अंतिम ठिकाना है।
बारिश की बूंदों को, तेरी यादों की खुशबू को फैलाना है,
और तेरे ना होने के एहसास से, मेरी पलकों को भींगना है।
शहर की इस भीड़ के, अपनेपन में सब बेगाना है,
अब नए शहर की तन्हाई में, खुद को गुमाकर दिखाना है।
शाम की मज़बूरी है, कि उसे रात में ढलकर समाना है,
पर ये रात के अँधेरे हीं तो, मुझे देते सुकूं का नजराना है।
अब आदत कोई नई लगे, इस पर हँसता दिल ये दीवाना है,
जो मुमकिन हीं नहीं, इस बात पर वक़्त क्यों गंवाना है।
दुआएं कितनी भी माँगूँ पर, बीते लम्हों को लौट कर कहाँ आना है,
अब तो उन लम्हों की कसक को, हर पल में मुझे तड़पाना है।
जन्मों की इन दूरियों को, जाने खुदा को अब कैसे मिटाना है,
पर असर इश्क़ का तेरा ऐसा है, जिसमें इस ज़िन्दगी को तो गुजर हीं जाना है।

2 Likes · 21 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
मौजूदा ये साल मयस्ससर हो जाए
मौजूदा ये साल मयस्ससर हो जाए
Shweta Soni
"संयम की रस्सी"
Dr. Kishan tandon kranti
लाईक और कॉमेंट्स
लाईक और कॉमेंट्स
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ईश्वर का अस्तित्व एवं आस्था
ईश्वर का अस्तित्व एवं आस्था
Shyam Sundar Subramanian
"किसान"
Slok maurya "umang"
अपने घर में हूँ मैं बे मकां की तरह मेरी हालत है उर्दू ज़बां की की तरह
अपने घर में हूँ मैं बे मकां की तरह मेरी हालत है उर्दू ज़बां की की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
पुण्यतिथि विशेष :/ विवेकानंद
पुण्यतिथि विशेष :/ विवेकानंद
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
सुनी चेतना की नहीं,
सुनी चेतना की नहीं,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
it is not about having a bunch of friends
it is not about having a bunch of friends
पूर्वार्थ
मैं उनकी ज़फाएं सहे जा रहा हूॅं।
मैं उनकी ज़फाएं सहे जा रहा हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
पास ही हूं मैं तुम्हारे कीजिए अनुभव।
पास ही हूं मैं तुम्हारे कीजिए अनुभव।
surenderpal vaidya
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
🥀*गुरु चरणों की धूल* 🥀
🥀*गुरु चरणों की धूल* 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
तू छीनती है गरीब का निवाला, मैं जल जंगल जमीन का सच्चा रखवाला,
तू छीनती है गरीब का निवाला, मैं जल जंगल जमीन का सच्चा रखवाला,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
*** चंद्रयान-३ : चांद की सतह पर....! ***
*** चंद्रयान-३ : चांद की सतह पर....! ***
VEDANTA PATEL
2460.पूर्णिका
2460.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तुम गए जैसे, वैसे कोई जाता नहीं
तुम गए जैसे, वैसे कोई जाता नहीं
Manisha Manjari
समस्या का समाधान
समस्या का समाधान
Paras Nath Jha
दिल का कोई
दिल का कोई
Dr fauzia Naseem shad
गीत
गीत "आती है अब उनको बदबू, माॅ बाबा के कमरे से"
अटल मुरादाबादी(ओज व व्यंग्य )
आज उम्मीद है के कल अच्छा होगा
आज उम्मीद है के कल अच्छा होगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कैलाश मानसरोवर यात्रा (पुस्तक समीक्षा)
कैलाश मानसरोवर यात्रा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
ममता का सागर
ममता का सागर
भरत कुमार सोलंकी
हममें आ जायेंगी बंदिशे
हममें आ जायेंगी बंदिशे
Pratibha Pandey
*जिंदगी*
*जिंदगी*
नेताम आर सी
कैसे भूल जाएं...
कैसे भूल जाएं...
इंजी. संजय श्रीवास्तव
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
Dr.Rashmi Mishra
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
*जिंदगी के  हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
*जिंदगी के हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...