Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

क्रूरता की हद पार

धीरे-धीरे वो पास आने लगा
प्यार के अफ़साने वो गाने लगा
इजहार प्यार का करके उसने
प्यार से उसे गले लगाने लगा

छोड़ आयी वो अपने परिवार को
हमसफ़र बन कर साथ रहने लगी
दूर सबसे वो ऐसे होने लगी
अपनी पहचान को वो खोने लगी

एक सुंदर सा सपना सजाने लगी
गीत प्रीत का वो मन में गाने लगी
धर्म अपना वो भूल
उस मजहब को अपनाने लगी

शक था या फिर थी शंका
या मन भर गया था उसका
इंसानो में आज इंसानियत जाने लगी
क्रूरता की सारी हदें पार होने लगी
पहले वार उसके दिल पे हजार किये
फिर शरीर के सौ टुकड़े काट दिए

दरिंदगी की हदें पार कर रहा इंसान
पहन चोला मानव का बन रहा हैवान

भयावह तस्वीर है आज के समाज की
रूह कांप जाता है देख हरकत इंसान की

ममता रानी
झारखंड

1 Like · 246 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mamta Rani
View all
You may also like:
2956.*पूर्णिका*
2956.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरे हृदय ने पूछा तुम कौन हो ?
मेरे हृदय ने पूछा तुम कौन हो ?
Manju sagar
वृंदा तुलसी पेड़ स्वरूपा
वृंदा तुलसी पेड़ स्वरूपा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जिन्दगी से शिकायत न रही
जिन्दगी से शिकायत न रही
Anamika Singh
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
Sonu sugandh
भक्तिकाल
भक्तिकाल
Sanjay ' शून्य'
फिर यहाँ क्यों कानून बाबर के हैं
फिर यहाँ क्यों कानून बाबर के हैं
Maroof aalam
दूरदर्शिता~
दूरदर्शिता~
दिनेश एल० "जैहिंद"
हिंदी - दिवस
हिंदी - दिवस
Ramswaroop Dinkar
बेवफा
बेवफा
Neeraj Agarwal
माँ महागौरी है नमन
माँ महागौरी है नमन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जबसे तुमसे लौ लगी, आए जगत न रास।
जबसे तुमसे लौ लगी, आए जगत न रास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"बोली-दिल से होली"
Dr. Kishan tandon kranti
खता मंजूर नहीं ।
खता मंजूर नहीं ।
Buddha Prakash
-मंहगे हुए टमाटर जी
-मंहगे हुए टमाटर जी
Seema gupta,Alwar
जो भूल गये हैं
जो भूल गये हैं
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
"कीचड़" में केवल
*Author प्रणय प्रभात*
हमको ख़ामोश कर दिया
हमको ख़ामोश कर दिया
Dr fauzia Naseem shad
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
goutam shaw
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
Sûrëkhâ Rãthí
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
satish rathore
गरीबी……..
गरीबी……..
Awadhesh Kumar Singh
महाप्रयाण
महाप्रयाण
Shyam Sundar Subramanian
स्त्री
स्त्री
Shweta Soni
I sit at dark to bright up in the sky 😍 by sakshi
I sit at dark to bright up in the sky 😍 by sakshi
Sakshi Tripathi
💐प्रेम कौतुक-472💐
💐प्रेम कौतुक-472💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्यास
प्यास
sushil sarna
क्यों तुमने?
क्यों तुमने?
Dr. Meenakshi Sharma
विषय
विषय
Rituraj shivem verma
** अरमान से पहले **
** अरमान से पहले **
surenderpal vaidya
Loading...