Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

क्यों दोष देते हो

क्यों.इन हवाओं को दोष
देते हो…?

उदधि के सीने पर तो
तुम ही तूफान लाये थे
ज्वार भाटे के संग भी
तुमको रोमांच भाये थे
अब कहते हो हमसे तुम
छलनी वक्षःस्थल हो गया।।

जीवन की परिभाषा बदली
तार-तार यह भूखण्ड हुआ
अपनी गढ़ी तुमने मर्यादायें
स्खलित हो, फैली विपदाएं
अब कहते हो अभिलेखों पर
किसने पत्थर लगवा दिए।।

चलते रहे तुम चाल शकुनी
रहे अनजान महाभारत से
शिशुपाल भी हार गया था
शब्द शब्द रण, अंगारों से
अब कहते हो समर रोक दें
चौसर, कौरव, इन भालों से।।

वाचस्पति मौन है किन्तु
समिधाएँ तो अवशेष हैं
होम होम दधीचि तन का
कर्ज़ कर्ज अभी शेष है

अब पूछते हो.. कौन्तेय !
मेरा मन किस वेश में है?

सूर्यकान्त द्विवेदी

Language: Hindi
52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कुछ कहा न जाए*
*कुछ कहा न जाए*
Shashi kala vyas
मुझको मेरी लत लगी है!!!
मुझको मेरी लत लगी है!!!
सिद्धार्थ गोरखपुरी
!! पुलिस अर्थात रक्षक !!
!! पुलिस अर्थात रक्षक !!
Akash Yadav
*नीम का पेड़*
*नीम का पेड़*
Radhakishan R. Mundhra
Khuch chand kisso ki shuruat ho,
Khuch chand kisso ki shuruat ho,
Sakshi Tripathi
"वो"
Dr. Kishan tandon kranti
अपनी सरहदें जानते है आसमां और जमीन...!
अपनी सरहदें जानते है आसमां और जमीन...!
Aarti sirsat
यदि कोई सास हो ललिता पवार जैसी,
यदि कोई सास हो ललिता पवार जैसी,
ओनिका सेतिया 'अनु '
(23) कुछ नीति वचन
(23) कुछ नीति वचन
Kishore Nigam
23/45.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/45.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हे कान्हा
हे कान्हा
Mukesh Kumar Sonkar
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
अपना भी नहीं बनाया उसने और
अपना भी नहीं बनाया उसने और
कवि दीपक बवेजा
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कदम बढ़े  मदिरा पीने  को मदिरालय द्वार खड़काया
कदम बढ़े मदिरा पीने को मदिरालय द्वार खड़काया
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
Satish Srijan
होली के रंग
होली के रंग
Anju ( Ojhal )
पत्नी
पत्नी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वेतन की चाहत लिए एक श्रमिक।
वेतन की चाहत लिए एक श्रमिक।
Rj Anand Prajapati
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
Er. Sanjay Shrivastava
घड़ी घड़ी में घड़ी न देखें, करें कर्म से अपने प्यार।
घड़ी घड़ी में घड़ी न देखें, करें कर्म से अपने प्यार।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
sushil sarna
राना दोहावली- तुलसी
राना दोहावली- तुलसी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
18. कन्नौज
18. कन्नौज
Rajeev Dutta
दुकान मे बैठने का मज़ा
दुकान मे बैठने का मज़ा
Vansh Agarwal
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*दादी की बहादुरी*
*दादी की बहादुरी*
Dushyant Kumar
■ आज का विचार
■ आज का विचार
*Author प्रणय प्रभात*
मरने में अचरज कहाँ ,जीने में आभार (कुंडलिया)
मरने में अचरज कहाँ ,जीने में आभार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
Loading...