Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-53💐

क्यों क्या हुआ छोड़ दिया मुझे?
जज़्ब बन कर रह गया हूँ मैं अभी भी।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’
जज़्ब-समा गया हूँ,आत्मसात होना, ब्रह्मलीन होना।

Language: Hindi
112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
देशभक्ति जनसेवा
देशभक्ति जनसेवा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन के हर युद्ध को,
जीवन के हर युद्ध को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शिव हैं शोभायमान
शिव हैं शोभायमान
surenderpal vaidya
"फितरत"
Ekta chitrangini
सोना छत पर अब कहॉं,पानी का छिड़काव (कुंडलिया )
सोना छत पर अब कहॉं,पानी का छिड़काव (कुंडलिया )
Ravi Prakash
#अद्भुत_प्रसंग
#अद्भुत_प्रसंग
*Author प्रणय प्रभात*
मैं आंसू बहाता रहा,
मैं आंसू बहाता रहा,
अनिल अहिरवार"अबीर"
जब 'बुद्ध' कोई नहीं बनता।
जब 'बुद्ध' कोई नहीं बनता।
Buddha Prakash
चाहत
चाहत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
पद्मावती छंद
पद्मावती छंद
Subhash Singhai
ऐ वसुत्व अर्ज किया है....
ऐ वसुत्व अर्ज किया है....
प्रेमदास वसु सुरेखा
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
Kumar lalit
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
अनिल कुमार
बात हमको है बतानी तो ध्यान हो !
बात हमको है बतानी तो ध्यान हो !
DrLakshman Jha Parimal
सच है, दुनिया हंसती है
सच है, दुनिया हंसती है
Saraswati Bajpai
2668.*पूर्णिका*
2668.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
कवि रमेशराज
दो शे'र ( चाँद )
दो शे'र ( चाँद )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
शीर्षक – शुष्क जीवन
शीर्षक – शुष्क जीवन
Manju sagar
हम तूफ़ानों से खेलेंगे, चट्टानों से टकराएँगे।
हम तूफ़ानों से खेलेंगे, चट्टानों से टकराएँगे।
आर.एस. 'प्रीतम'
मैं धरा सी
मैं धरा सी
Surinder blackpen
दिल ने गुस्ताखियाॅ॑ बहुत की हैं जाने-अंजाने
दिल ने गुस्ताखियाॅ॑ बहुत की हैं जाने-अंजाने
VINOD CHAUHAN
नसीहत
नसीहत
Shivkumar Bilagrami
ठहर गया
ठहर गया
sushil sarna
ये जो मेरी आँखों में
ये जो मेरी आँखों में
हिमांशु Kulshrestha
"ख़ासियत"
Dr. Kishan tandon kranti
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
ruby kumari
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
सत्य कुमार प्रेमी
कहे तो क्या कहे कबीर
कहे तो क्या कहे कबीर
Shekhar Chandra Mitra
चिड़िया!
चिड़िया!
सेजल गोस्वामी
Loading...