Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-309💐

क्यों,उनके इश्क़ के मायने अलग थे क्या,
मेरे सवालों के ज़बाब पहले से तय थे क्या।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
230 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Sakshi Tripathi
संवेदनाएं
संवेदनाएं
Buddha Prakash
चाय ही पी लेते हैं
चाय ही पी लेते हैं
Ghanshyam Poddar
पागल प्रेम
पागल प्रेम
भरत कुमार सोलंकी
सनातन के नाम पर जो स्त्रियों पर अपने कुत्सित विचार रखते हैं
सनातन के नाम पर जो स्त्रियों पर अपने कुत्सित विचार रखते हैं
Sonam Puneet Dubey
क्या ये गलत है ?
क्या ये गलत है ?
Rakesh Bahanwal
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
सत्य कुमार प्रेमी
आजकल रिश्तेदार भी
आजकल रिश्तेदार भी
*प्रणय प्रभात*
मौसम आया फाग का,
मौसम आया फाग का,
sushil sarna
मिले हम तुझसे
मिले हम तुझसे
Seema gupta,Alwar
तुम्हीं  से  मेरी   जिंदगानी  रहेगी।
तुम्हीं से मेरी जिंदगानी रहेगी।
Rituraj shivem verma
सौंदर्य मां वसुधा की🙏
सौंदर्य मां वसुधा की🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
summer as festival*
summer as festival*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेटियों ने
बेटियों ने
ruby kumari
जिंदगी का यह दौर भी निराला है
जिंदगी का यह दौर भी निराला है
Ansh
सृजन तेरी कवितायें
सृजन तेरी कवितायें
Satish Srijan
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
दिल के कागज़ पर हमेशा ध्यान से लिखिए।
दिल के कागज़ पर हमेशा ध्यान से लिखिए।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2915.*पूर्णिका*
2915.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पितर पाख
पितर पाख
Mukesh Kumar Sonkar
संभावना
संभावना
Ajay Mishra
बचा लो तिरंगा
बचा लो तिरंगा
Dr.Pratibha Prakash
हम तब तक किसी की प्रॉब्लम नहीं बनते..
हम तब तक किसी की प्रॉब्लम नहीं बनते..
Ravi Betulwala
कृपया मेरी सहायता करो...
कृपया मेरी सहायता करो...
Srishty Bansal
"सीख"
Dr. Kishan tandon kranti
सर्वनाम के भेद
सर्वनाम के भेद
Neelam Sharma
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀 *वार्णिक छंद।*
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀 *वार्णिक छंद।*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हसरतों की भी एक उम्र होनी चाहिए।
हसरतों की भी एक उम्र होनी चाहिए।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
अगर, आप सही है
अगर, आप सही है
Bhupendra Rawat
एक दिन बिना बताए उम्मीद भी ऐसी चली जाती है,
एक दिन बिना बताए उम्मीद भी ऐसी चली जाती है,
पूर्वार्थ
Loading...