Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2017 · 1 min read

क्यूँकि हम बेटियाँ हैं

रचनाकार-किरणमिश्रा
विधा-कविता

“क्यूँकि हम बेटियाँ हैं”

महकाऊंगी कोख तुम्हारी,
बोवोगे गर बेटियाँ!
बंजर हो जायेगी सारी दुनिया,
मारोगे गर बेटियाँ !!

अमूल्य निधि हूँ,मुझको पहचानो
दोनों कुल की आन हूँ !
महापाप है गर्भ में हत्या,
माँ मैं भी तेरी सन्तान हूँ!!

बालिका-वधू मुझे बनाके,
जीवन ना बनाओ,अभिशाप मेरा!
मुझे पढ़ाओ,मुझे लिखाओ,
छूने दो आसमान तुम!!

भइयाजी की आन बनूँगी,
मम्मीपापा तुम्हारी जान मैं!
पढ़लिखकर सूरज सी चमकूँगी,
मैं भी विश्व पटल पर शान से!!

गुड़िया बन कर खेलूँगी
माँ तुम्हारी छाँव में!
चिड़ियाँ बन के उड़ जाऊँगी
सासू जी के गाँव में!!

पिता हिमालय की गंगा बन,
सींचूँगी ससुराल को !
सासससुर और जेठ-ननद
रिश्तों की भरमार को!!

जीवन साथी साथ निभाना,
वेदों के उच्चार से!
जीवन ज्योति सदा उजागर
हम दोनों के प्यार से!!

सुन्दर बगिया महकायेंगें,
नन्हें फूलों की मुस्कान से !
दिगदिगन्त तक लहरायेंगें,
दोनों कुल की शान को !!””

“एक आग्रह हमें भी जीने दो “क्यूँकि हम बेटियाँ है”

1 Like · 2965 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन
जीवन
Monika Verma
दृष्टिबाधित भले हूँ
दृष्टिबाधित भले हूँ
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मेरे जीवन के इस पथ को,
मेरे जीवन के इस पथ को,
Anamika Singh
मॉडर्न किसान
मॉडर्न किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन में सफल होने
जीवन में सफल होने
Dr.Rashmi Mishra
Anxiety fucking sucks.
Anxiety fucking sucks.
पूर्वार्थ
10. जिंदगी से इश्क कर
10. जिंदगी से इश्क कर
Rajeev Dutta
🥀 * गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 * गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सितारा कोई
सितारा कोई
shahab uddin shah kannauji
कवि की कल्पना
कवि की कल्पना
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मई दिवस
मई दिवस
Neeraj Agarwal
"ऐ मेरे बचपन तू सुन"
Dr. Kishan tandon kranti
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
Phool gufran
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
Keshav kishor Kumar
#चप्पलचोर_जूताखोर
#चप्पलचोर_जूताखोर
*Author प्रणय प्रभात*
किसी बच्चे की हँसी देखकर
किसी बच्चे की हँसी देखकर
ruby kumari
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
Gouri tiwari
होली
होली
Dr. Kishan Karigar
औरत
औरत
नूरफातिमा खातून नूरी
चिल्लाने के लिए ताकत की जरूरत नहीं पड़ती,
चिल्लाने के लिए ताकत की जरूरत नहीं पड़ती,
शेखर सिंह
ऐ ज़िंदगी।
ऐ ज़िंदगी।
Taj Mohammad
आपके स्वभाव की सहजता
आपके स्वभाव की सहजता
Dr fauzia Naseem shad
आजकल / (नवगीत)
आजकल / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गठबंधन INDIA
गठबंधन INDIA
Bodhisatva kastooriya
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
मन बैठ मेरे पास पल भर,शांति से विश्राम कर
मन बैठ मेरे पास पल भर,शांति से विश्राम कर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं जिसको ढूंढ रहा था वो मिल गया मुझमें
मैं जिसको ढूंढ रहा था वो मिल गया मुझमें
Aadarsh Dubey
*आया पूरब से अरुण ,पिघला जैसे स्वर्ण (कुंडलिया)*
*आया पूरब से अरुण ,पिघला जैसे स्वर्ण (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वार
वार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
फागुन आया झूमकर, लगा सताने काम।
फागुन आया झूमकर, लगा सताने काम।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...