Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2024 · 1 min read

क्या लिखूँ….???

क्या लिखूँ…???
कुछ समझ न पाऊँ।

शब्द दिख रहे,
खोए-खोए।।
जग में कितनी
पीड़ाऐं हैं..!!
आखिर कोई
कितना रोए…???
मानव ही जब
मानव हृदय की
व्यथा समझ
न पाता है।
शब्द अगर मिल जाऐं भी
अर्थ कहीं खो जाता है।

रचनाकार : कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत)।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)।
वर्ष :- २०१३.

Language: Hindi
1 Like · 107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
" नयन अभिराम आये हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
Shashi kala vyas
*जो लूॅं हर सॉंस उसका स्वर, अयोध्या धाम बन जाए (मुक्तक)*
*जो लूॅं हर सॉंस उसका स्वर, अयोध्या धाम बन जाए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कोई पागल हो गया,
कोई पागल हो गया,
sushil sarna
मन चाहे कुछ कहना....!
मन चाहे कुछ कहना....!
Kanchan Khanna
"दरअसल"
Dr. Kishan tandon kranti
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
भारत के लाल को भारत रत्न
भारत के लाल को भारत रत्न
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"घूंघट नारी की आजादी पर वह पहरा है जिसमे पुरुष खुद को सहज मह
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
कमीना विद्वान।
कमीना विद्वान।
Acharya Rama Nand Mandal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
Aarti sirsat
,,
,,
Sonit Parjapati
हिजरत - चार मिसरे
हिजरत - चार मिसरे
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
संवेदना
संवेदना
Ekta chitrangini
तुम हासिल ही हो जाओ
तुम हासिल ही हो जाओ
हिमांशु Kulshrestha
रात बसर कर ली है मैंने तुम्हारे शहर में,
रात बसर कर ली है मैंने तुम्हारे शहर में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सबसे नालायक बेटा
सबसे नालायक बेटा
आकांक्षा राय
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"" *समय धारा* ""
सुनीलानंद महंत
आए हैं फिर चुनाव कहो राम राम जी।
आए हैं फिर चुनाव कहो राम राम जी।
सत्य कुमार प्रेमी
2401.पूर्णिका
2401.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कृष्ण वंदना
कृष्ण वंदना
लक्ष्मी सिंह
यहां ज्यादा की जरूरत नहीं
यहां ज्यादा की जरूरत नहीं
Swami Ganganiya
राह मुझको दिखाना, गर गलत कदम हो मेरा
राह मुझको दिखाना, गर गलत कदम हो मेरा
gurudeenverma198
पत्थर तोड़ती औरत!
पत्थर तोड़ती औरत!
कविता झा ‘गीत’
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
गुरूर चाँद का
गुरूर चाँद का
Satish Srijan
मायके से दुआ लीजिए
मायके से दुआ लीजिए
Harminder Kaur
वक्त और रिश्ते
वक्त और रिश्ते
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Loading...