Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2024 · 1 min read

क्या कहेंगे लोग

हाय अल्लाह, अब क्या कहेंगे लोग।
दुनिया का यही है सबसे बड़ा रोग। ।

खुद से ज्यादा औरों की क्यों फिक्र ,
बात अपनी लेकिन लोगों का जिक्र।

क्या मुसीबत में ये लोग आयेंगे काम,
परेशानियां हमारी करेंगे अपने नाम।

कब तलक टूटेंगे इस के कारण अरमां
कितनी जिंदगियां इस बात ने की वीरां ।

समझो ज़रा जब अपनी जंग खुद लड़ना
लोगों के बारे सोच कर क्यूं फिर डरना।

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
श्रावण सोमवार
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अहाना छंद बुंदेली
अहाना छंद बुंदेली
Subhash Singhai
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
Rituraj shivem verma
"वो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
जुल्मतों के दौर में
जुल्मतों के दौर में
Shekhar Chandra Mitra
हाँ, तैयार हूँ मैं
हाँ, तैयार हूँ मैं
gurudeenverma198
कौन कहता है आक्रोश को अभद्रता का हथियार चाहिए ? हम तो मौन रह
कौन कहता है आक्रोश को अभद्रता का हथियार चाहिए ? हम तो मौन रह
DrLakshman Jha Parimal
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
लक्ष्मी सिंह
सुख दुःख
सुख दुःख
जगदीश लववंशी
यह  सिक्वेल बनाने का ,
यह सिक्वेल बनाने का ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय-  उँगली   / अँगुली
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय- उँगली / अँगुली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्यार के सरोवर मे पतवार होगया।
प्यार के सरोवर मे पतवार होगया।
Anil chobisa
प्रीति
प्रीति
Mahesh Tiwari 'Ayan'
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
डॉ.सीमा अग्रवाल
देख लूँ गौर से अपना ये शहर
देख लूँ गौर से अपना ये शहर
Shweta Soni
तुम पंख बन कर लग जाओ
तुम पंख बन कर लग जाओ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*13 जुलाई 1983 : संपादक की पुत्री से लेखक का विवाह*
*13 जुलाई 1983 : संपादक की पुत्री से लेखक का विवाह*
Ravi Prakash
बीन अधीन फणीश।
बीन अधीन फणीश।
Neelam Sharma
"गंगा माँ बड़ी पावनी"
Ekta chitrangini
कोई तंकीद
कोई तंकीद
Dr fauzia Naseem shad
■ अधकचरों की भीड़ के बीच उपजता है अर्द्धसत्य।
■ अधकचरों की भीड़ के बीच उपजता है अर्द्धसत्य।
*Author प्रणय प्रभात*
बात
बात
Ajay Mishra
3445🌷 *पूर्णिका* 🌷
3445🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
Rj Anand Prajapati
विरह गीत
विरह गीत
नाथ सोनांचली
चंदा का अर्थशास्त्र
चंदा का अर्थशास्त्र
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बांध रखा हूं खुद को,
बांध रखा हूं खुद को,
Shubham Pandey (S P)
नेक मनाओ
नेक मनाओ
Ghanshyam Poddar
सफलता वही है जो निरंतर एवं गुणवत्तापूर्ण हो।
सफलता वही है जो निरंतर एवं गुणवत्तापूर्ण हो।
dks.lhp
युवा है हम
युवा है हम
Pratibha Pandey
Loading...