Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2023 · 1 min read

कोरा रंग

लाख रंग फैले हैं फ़िज़ाओं में, पर रंग मुझपर कोई चढ़ता नहीं है,
तेरे कोरे रंग में रंगी हूँ इस तरह, की रंग मुझपर से तेरा उतरता नहीं है।
तन को छूते गुलाल आज भी, पर रंग कोई मन पर आकर ठहरता नहीं है,
सुनाई देती है, फाल्गुन के गीतों की गुंजन, पर संगीत विरह का थमता नहीं है।
सजती है मिठाईयों की थाल वैसी हीं , पर चमक मेरे चेहरे का अब दिखता नहीं है,
मदहोशी में डगमगाते है दुनिया के कदम, पर थमी सी दुनिया का दर्द, मेरा मिटता नहीं है।
वो कृष्णा आज भी खेले है, वृन्दावन में होली, पर यूँ रूठा सखा मेरा, कि अब मिलता नहीं है।
ठिठोलियाँ चूमती हैं, हर घर के दर को, पर इंतज़ार ऐसा आया तेरा, कि ढलता नहीं है।
झूमता है बसंत, फूलों में आज भी, पर अब तेरा गुलाब, किताबों में मेरी खिलता नहीं है,
बहाने मुलाक़ातों के बनते हैं अब भी, पर तू है कि साथ मेरे अब चलता नहीं है।
उस मणिकर्णिका के घाट पर, जला तू इस तरह, कि वो मंजर आँखों से मेरी पिघलता नहीं है,
रंग छीन गए सारे सपनों के मेरे, बस ये रंग कोरा है जो मुझसे बिछड़ता नहीं है।

1 Like · 335 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
देख स्वप्न सी उर्वशी,
देख स्वप्न सी उर्वशी,
sushil sarna
मेरे प्रेम की सार्थकता को, सवालों में भटका जाती हैं।
मेरे प्रेम की सार्थकता को, सवालों में भटका जाती हैं।
Manisha Manjari
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
manjula chauhan
तुझे किस बात ला गुमान है
तुझे किस बात ला गुमान है
भरत कुमार सोलंकी
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मन की बात
मन की बात
पूर्वार्थ
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
Paras Nath Jha
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
जीवन के आधार पिता
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
चरचा गरम बा
चरचा गरम बा
Shekhar Chandra Mitra
विजय द्वार (कविता)
विजय द्वार (कविता)
sandeep kumar Yadav
कविता माँ काली का गद्यानुवाद
कविता माँ काली का गद्यानुवाद
गुमनाम 'बाबा'
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
आए तो थे प्रकृति की गोद में ,
आए तो थे प्रकृति की गोद में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
कड़वा है मगर सच है
कड़वा है मगर सच है
Adha Deshwal
*कुछ कहा न जाए*
*कुछ कहा न जाए*
Shashi kala vyas
दोहे
दोहे
डॉक्टर रागिनी
बह्र- 1222 1222 1222 1222 मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन काफ़िया - सारा रदीफ़ - है
बह्र- 1222 1222 1222 1222 मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन काफ़िया - सारा रदीफ़ - है
Neelam Sharma
खिला हूं आजतक मौसम के थपेड़े सहकर।
खिला हूं आजतक मौसम के थपेड़े सहकर।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
सुना है सपनों की हाट लगी है , चलो कोई उम्मीद खरीदें,
सुना है सपनों की हाट लगी है , चलो कोई उम्मीद खरीदें,
Manju sagar
*आया भैया दूज का, पावन यह त्यौहार (कुंडलिया)*
*आया भैया दूज का, पावन यह त्यौहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
Buddha Prakash
शायरी 2
शायरी 2
SURYA PRAKASH SHARMA
राम छोड़ ना कोई हमारे..
राम छोड़ ना कोई हमारे..
Vijay kumar Pandey
उफ्फ्फ
उफ्फ्फ
Atul "Krishn"
हम वर्षों तक निःशब्द ,संवेदनरहित और अकर्मण्यता के चादर को ओढ़
हम वर्षों तक निःशब्द ,संवेदनरहित और अकर्मण्यता के चादर को ओढ़
DrLakshman Jha Parimal
#सुप्रभात
#सुप्रभात
*Author प्रणय प्रभात*
vah kaun hai?
vah kaun hai?
ASHISH KUMAR SINGH
जिंदगी और रेलगाड़ी
जिंदगी और रेलगाड़ी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...