Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2024 · 1 min read

“कोरा कागज”

“कोरा कागज”
कोरे कागज पर दर्द सजाए हैं हमने,
हसरतों की शमा जलाए हैं हमने।
दोनों जहां की भेंट चढ़ा कर,
तेरी राह में नजर बिछाए हैं हमने।

1 Like · 1 Comment · 86 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
जी हमारा नाम है
जी हमारा नाम है "भ्रष्ट आचार"
Atul "Krishn"
हम तूफ़ानों से खेलेंगे, चट्टानों से टकराएँगे।
हम तूफ़ानों से खेलेंगे, चट्टानों से टकराएँगे।
आर.एस. 'प्रीतम'
भारत
भारत
Bodhisatva kastooriya
मैं और वो
मैं और वो
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ये पैसा भी गजब है,
ये पैसा भी गजब है,
Umender kumar
*शहर की जिंदगी*
*शहर की जिंदगी*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुमसा तो कान्हा कोई
तुमसा तो कान्हा कोई
Harminder Kaur
तुम और बिंदी
तुम और बिंदी
Awadhesh Singh
फितरत
फितरत
Dr fauzia Naseem shad
*हैं जिनके पास अपने*,
*हैं जिनके पास अपने*,
Rituraj shivem verma
तेरे दिदार
तेरे दिदार
SHAMA PARVEEN
"उजला मुखड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
यूँही चलते है कदम बेहिसाब
यूँही चलते है कदम बेहिसाब
Vaishaligoel
सुदामा जी
सुदामा जी
Vijay Nagar
भगवान
भगवान
Anil chobisa
इस हसीन चेहरे को पर्दे में छुपाके रखा करो ।
इस हसीन चेहरे को पर्दे में छुपाके रखा करो ।
Phool gufran
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
Anand Kumar
अगर न बने नये रिश्ते ,
अगर न बने नये रिश्ते ,
शेखर सिंह
2462.पूर्णिका
2462.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
द्रोपदी फिर.....
द्रोपदी फिर.....
Kavita Chouhan
जब तुम आए जगत में, जगत हंसा तुम रोए।
जब तुम आए जगत में, जगत हंसा तुम रोए।
Dr MusafiR BaithA
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जाति-धर्म
जाति-धर्म
लक्ष्मी सिंह
वही खुला आँगन चाहिए
वही खुला आँगन चाहिए
जगदीश लववंशी
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*शंकर जी (बाल कविता)*
*शंकर जी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
ଚୋରାଇ ଖାଇଲେ ମିଠା
ଚୋରାଇ ଖାଇଲେ ମିଠା
Bidyadhar Mantry
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो ,  प्यार की बौछार से उज
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो , प्यार की बौछार से उज
DrLakshman Jha Parimal
Loading...