Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 May 2023 · 1 min read

कोना मेरे नाम का

वो कोना
जो मेरे नाम का है
क्या उसमें कभी
आपका आना भी
होता है,
या वहां भी मैं
तन्हा ….
उस कोने
को अपनी
दुनिया बना
कर
इंतजार ही
करुगी
अंतिम सांस
तक
आपके आने का।

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 375 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ईमान
ईमान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
बीजः एक असीम संभावना...
बीजः एक असीम संभावना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
महोब्बत करो तो सावले रंग से करना गुरु
महोब्बत करो तो सावले रंग से करना गुरु
शेखर सिंह
पहले तेरे हाथों पर
पहले तेरे हाथों पर
The_dk_poetry
कुंडलिया
कुंडलिया
गुमनाम 'बाबा'
■ बन्द करो पाखण्ड...!!
■ बन्द करो पाखण्ड...!!
*प्रणय प्रभात*
राना दोहावली- तुलसी
राना दोहावली- तुलसी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
किसी मुस्क़ान की ख़ातिर ज़माना भूल जाते हैं
किसी मुस्क़ान की ख़ातिर ज़माना भूल जाते हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
जब असहिष्णुता सर पे चोट करती है ,मंहगाईयाँ सर चढ़ के जब तांडव
जब असहिष्णुता सर पे चोट करती है ,मंहगाईयाँ सर चढ़ के जब तांडव
DrLakshman Jha Parimal
रग रग में देशभक्ति
रग रग में देशभक्ति
भरत कुमार सोलंकी
पत्नी के जन्मदिन पर....
पत्नी के जन्मदिन पर....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
* खूब कीजिए प्यार *
* खूब कीजिए प्यार *
surenderpal vaidya
"तीर और पीर"
Dr. Kishan tandon kranti
अपने तो अपने होते हैं
अपने तो अपने होते हैं
Harminder Kaur
हम यह सोच रहे हैं, मोहब्बत किससे यहाँ हम करें
हम यह सोच रहे हैं, मोहब्बत किससे यहाँ हम करें
gurudeenverma198
फनकार
फनकार
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
*क्या देखते हो *
*क्या देखते हो *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चंद्रयान-थ्री
चंद्रयान-थ्री
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
Pramila sultan
सुशील कुमार मोदी जी को विनम्र श्रद्धांजलि
सुशील कुमार मोदी जी को विनम्र श्रद्धांजलि
विक्रम कुमार
2320.पूर्णिका
2320.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हमेशा फूल दोस्ती
हमेशा फूल दोस्ती
Shweta Soni
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
अनिल कुमार निश्छल
भगवत गीता जयंती
भगवत गीता जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
Neelam Sharma
बहुत नफा हुआ उसके जाने से मेरा।
बहुत नफा हुआ उसके जाने से मेरा।
शिव प्रताप लोधी
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
Anil Mishra Prahari
भगवान महाबीर
भगवान महाबीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सवाल
सवाल
Manisha Manjari
Loading...