Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-118💐

कोई सोज़ नहीं है ठण्डक है मिली मुझे,
बहुत बानगी से छिपाया है मेरे इश्क़ को।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
37 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
Forgive everyone 🙂
Forgive everyone 🙂
Vandana maurya
..सुप्रभात
..सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
~प्रकृति~(द्रुत विलम्बित छंद)
~प्रकृति~(द्रुत विलम्बित छंद)
Vijay kumar Pandey
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
धीरे धीरे बदल रहा
धीरे धीरे बदल रहा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
चैतन्य
चैतन्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जल
जल
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
शायरी
शायरी
goutam shaw
प्रभु की शरण
प्रभु की शरण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*नत ( कुंडलिया )*
*नत ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
मां गंगा ऐसा वर दे
मां गंगा ऐसा वर दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
श्रीमद्भगवद्‌गीता का सार
श्रीमद्भगवद्‌गीता का सार
Jyoti Khari
यादें 🥀🌔
यादें 🥀🌔
Skanda Joshi
"कबड्डी"
Dr. Kishan tandon kranti
2275.
2275.
Dr.Khedu Bharti
गरूर मंजिलों का जब खट्टा पड़ गया
गरूर मंजिलों का जब खट्टा पड़ गया
कवि दीपक बवेजा
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
लक्ष्मी सिंह
याद आते हैं वो
याद आते हैं वो
रोहताश वर्मा मुसाफिर
■ आज का दोहा...
■ आज का दोहा...
*Author प्रणय प्रभात*
***
*** " हमारी इसरो शक्ति...! " ***
VEDANTA PATEL
या ख़ुदा पाँव में बे-शक मुझे छाले देना
या ख़ुदा पाँव में बे-शक मुझे छाले देना
Anis Shah
हे देश मेरे महबूब है तू,
हे देश मेरे महबूब है तू,
Satish Srijan
“ हमारा फेसबूक और हमरा टाइमलाइन ”
“ हमारा फेसबूक और हमरा टाइमलाइन ”
DrLakshman Jha Parimal
Jindagi ka kya bharosa,
Jindagi ka kya bharosa,
Sakshi Tripathi
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
Neelam Sharma
इस मुकाम पे तुझे क्यूं सूझी बिछड़ने की
इस मुकाम पे तुझे क्यूं सूझी बिछड़ने की
शिव प्रताप लोधी
भू- भूधर पहने हुये, बर्फीले परिधान
भू- भूधर पहने हुये, बर्फीले परिधान
Dr Archana Gupta
पापा , तुम बिन जीवन रीता है
पापा , तुम बिन जीवन रीता है
Dilip Kumar
पिंजरे के पंछी को उड़ने दो
पिंजरे के पंछी को उड़ने दो
Dr Nisha nandini Bhartiya
💐प्रेम कौतुक-309💐
💐प्रेम कौतुक-309💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...