Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-290💐

कोई मंज़िल न थी बस उनका एतिबार था,
काँटे से चुभ गए हैं,उनको बे-एतिबार था।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
199 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नंबर पुराना चल रहा है नई ग़ज़ल Vinit Singh Shayar
नंबर पुराना चल रहा है नई ग़ज़ल Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
Rj Anand Prajapati
बुरा न मानो, होली है! जोगीरा सा रा रा रा रा....
बुरा न मानो, होली है! जोगीरा सा रा रा रा रा....
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
संजय कुमार संजू
पृथ्वी दिवस पर
पृथ्वी दिवस पर
Mohan Pandey
तब मानोगे
तब मानोगे
विजय कुमार नामदेव
बगावत की बात
बगावत की बात
AJAY PRASAD
हवन - दीपक नीलपदम्
हवन - दीपक नीलपदम्
दीपक नील पदम् { Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam" }
*प्राण-प्रतिष्ठा (दोहे)*
*प्राण-प्रतिष्ठा (दोहे)*
Ravi Prakash
किस तिजोरी की चाबी चाहिए
किस तिजोरी की चाबी चाहिए
भरत कुमार सोलंकी
मुझे वो एक शख्स चाहिये ओर उसके अलावा मुझे ओर किसी का होना भी
मुझे वो एक शख्स चाहिये ओर उसके अलावा मुझे ओर किसी का होना भी
yuvraj gautam
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
फिर मिलेंगें
फिर मिलेंगें
साहित्य गौरव
2568.पूर्णिका
2568.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गुम है
गुम है
Punam Pande
ये नज़रें
ये नज़रें
Shyam Sundar Subramanian
तुम बिन
तुम बिन
Dinesh Kumar Gangwar
है कश्मकश - इधर भी - उधर भी
है कश्मकश - इधर भी - उधर भी
Atul "Krishn"
कलियुगी रिश्ते!
कलियुगी रिश्ते!
Saransh Singh 'Priyam'
हर इंसान को भीतर से थोड़ा सा किसान होना चाहिए
हर इंसान को भीतर से थोड़ा सा किसान होना चाहिए
ruby kumari
सब कुछ पा लेने की इच्छा ही तृष्णा है और कृपापात्र प्राणी ईश्
सब कुछ पा लेने की इच्छा ही तृष्णा है और कृपापात्र प्राणी ईश्
Sanjay ' शून्य'
डर लगता है
डर लगता है
Dr.Pratibha Prakash
सीरिया रानी
सीरिया रानी
Dr. Mulla Adam Ali
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर विशेष कविता:-
श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर विशेष कविता:-
*प्रणय प्रभात*
🙏 अज्ञानी की कलम🙏
🙏 अज्ञानी की कलम🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दिवाली का संकल्प
दिवाली का संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रुत चुनाव की आई 🙏
रुत चुनाव की आई 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
काम ये करिए नित्य,
काम ये करिए नित्य,
Shweta Soni
बड़ा मज़ा आता है,
बड़ा मज़ा आता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...