Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-341💐

कोई आवाज़ दो हमें, तो जाने,
हमने आवाज़ दी तो तुम्हें जाने,
तोड़ दिया सब बे-एतिबार के संग,
अब बताओ तुम्हें फिर कैसे जाने।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
180 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कहो कैसे वहाँ हो तुम
कहो कैसे वहाँ हो तुम
gurudeenverma198
बहुत तरासती है यह दुनिया जौहरी की तरह
बहुत तरासती है यह दुनिया जौहरी की तरह
VINOD CHAUHAN
शिवरात्रि
शिवरात्रि
Madhu Shah
*घर में बैठे रह गए , नेता गड़बड़ दास* (हास्य कुंडलिया
*घर में बैठे रह गए , नेता गड़बड़ दास* (हास्य कुंडलिया
Ravi Prakash
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
सत्य कुमार प्रेमी
झुक कर दोगे मान तो,
झुक कर दोगे मान तो,
sushil sarna
बॉर्डर पर जवान खड़ा है।
बॉर्डर पर जवान खड़ा है।
Kuldeep mishra (KD)
जब तात तेरा कहलाया था
जब तात तेरा कहलाया था
Akash Yadav
"जन्नत"
Dr. Kishan tandon kranti
भगवान
भगवान
Anil chobisa
बैठा हूँ उस राह पर जो मेरी मंजिल नहीं
बैठा हूँ उस राह पर जो मेरी मंजिल नहीं
Pushpraj Anant
जीवन पथ पर सब का अधिकार
जीवन पथ पर सब का अधिकार
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
तुम पर क्या लिखूँ ...
तुम पर क्या लिखूँ ...
Harminder Kaur
उदयमान सूरज साक्षी है ,
उदयमान सूरज साक्षी है ,
Vivek Mishra
पावन सावन मास में
पावन सावन मास में
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
“सत्य वचन”
“सत्य वचन”
Sandeep Kumar
"जब मानव कवि बन जाता हैं "
Slok maurya "umang"
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
surenderpal vaidya
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता
पिता
लक्ष्मी सिंह
काबा जाए कि काशी
काबा जाए कि काशी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
क़िताबों में दफ़न है हसरत-ए-दिल के ख़्वाब मेरे,
क़िताबों में दफ़न है हसरत-ए-दिल के ख़्वाब मेरे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2498.पूर्णिका
2498.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
समय
समय
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
लघुकथा - घर का उजाला
लघुकथा - घर का उजाला
अशोक कुमार ढोरिया
बेटियां
बेटियां
करन ''केसरा''
मजदूर
मजदूर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
फ़र्ज़ ...
फ़र्ज़ ...
Shaily
■ तमाम लोग...
■ तमाम लोग...
*प्रणय प्रभात*
Loading...