Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-341💐

कोई आवाज़ दो हमें, तो जाने,
हमने आवाज़ दी तो तुम्हें जाने,
तोड़ दिया सब बे-एतिबार के संग,
अब बताओ तुम्हें फिर कैसे जाने।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-353💐
💐प्रेम कौतुक-353💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
I don't care for either person like or dislikes me
I don't care for either person like or dislikes me
Ankita Patel
"बरसात"
Dr. Kishan tandon kranti
बरसात (विरह)
बरसात (विरह)
लक्ष्मी सिंह
मंद मंद बहती हवा
मंद मंद बहती हवा
Soni Gupta
पहले नामकरण
पहले नामकरण
*Author प्रणय प्रभात*
माँ
माँ
meena singh
मेरा तुझसे मिलना, मिलकर इतना यूं करीब आ जाना।
मेरा तुझसे मिलना, मिलकर इतना यूं करीब आ जाना।
AVINASH (Avi...) MEHRA
पाया ऊँचा ओहदा, रही निम्न क्यों सोच ?
पाया ऊँचा ओहदा, रही निम्न क्यों सोच ?
डॉ.सीमा अग्रवाल
अछय तृतीया
अछय तृतीया
Bodhisatva kastooriya
ईद आ गई है
ईद आ गई है
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
घायल तुझे नींद आये न आये
घायल तुझे नींद आये न आये
Ravi Ghayal
बदलता भारत
बदलता भारत
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
आशिकी
आशिकी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एकदम सुलझे मेरे सुविचार..✍️🫡💯
एकदम सुलझे मेरे सुविचार..✍️🫡💯
Ms.Ankit Halke jha
मुहब्बत  फूल  होती  है
मुहब्बत फूल होती है
shabina. Naaz
मेरा पिता! मुझको कभी गिरने नही देगा
मेरा पिता! मुझको कभी गिरने नही देगा
अनूप अम्बर
समय का एक ही पल किसी के लिए सुख , किसी के लिए दुख , किसी के
समय का एक ही पल किसी के लिए सुख , किसी के लिए दुख , किसी के
Seema Verma
*पानी व्यर्थ न गंवाओ*
*पानी व्यर्थ न गंवाओ*
Dushyant Kumar
मन के ढलुवा पथ पर अनगिन
मन के ढलुवा पथ पर अनगिन
Rashmi Sanjay
दिनांक - २१/५/२०२३
दिनांक - २१/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पापा
पापा
Kanchan Khanna
कोई उम्मीद किसी से,तुम नहीं करो
कोई उम्मीद किसी से,तुम नहीं करो
gurudeenverma198
महावीर की शिक्षाएं, सारी दुनिया को प्रसांगिक हैं
महावीर की शिक्षाएं, सारी दुनिया को प्रसांगिक हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
हम रहें आजाद
हम रहें आजाद
surenderpal vaidya
मुझे भी आकाश में उड़ने को मिले पर
मुझे भी आकाश में उड़ने को मिले पर
Charu Mitra
कबीर: एक नाकाम पैगम्बर
कबीर: एक नाकाम पैगम्बर
Shekhar Chandra Mitra
खाया रसगुल्ला बड़ा , एक जलेबा गर्म (कुंडलिया)
खाया रसगुल्ला बड़ा , एक जलेबा गर्म (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मैं उड़ सकती
मैं उड़ सकती
Surya Barman
Loading...