Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2023 · 1 min read

कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में

(शेर)- कभी हमें अपना तो समझा नहीं, आज क्या प्यार मिलेगा।
होना पड़ेगा शर्मसार हमको ही, ठिकाना उनसे बेकार मिलेगा।।
————————————————————-
कैसे रखें हम कदम, आपकी महफ़िल में।
होगी क्या हमसे बहार, आपकी महफ़िल में।।
कैसे रखें हम कदम————————–।।

साथ कुछ लाये नहीं हम, तुमको क्या दे सकेंगे।
लोग क्या तुमसे कहेंगे, आपकी महफ़िल में।।
कैसे रखें हम कदम————————–।

होंगे क्या काबिल तुम्हारे, आप जैसे माहताब।
बन सकेंगे नहीं हम सितारें, आपकी महफ़िल में।।
कैसे रखें हम कदम————————–।।

देख लेगा कोई अगर, हमारी मुफलिसी को।
होगा तब कैसा नजारा, आपकी महफ़िल में।।
कैसे रखें हम कदम————————–।।

बन सकेंगे हम नहीं, आपकी मन्जिल के फूल।
नहीं मिलेगी तुम्हें ख़ुशी, आपकी महफ़िल में।।
कैसे रखें हम कदम————————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

237 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नाम:- प्रतिभा पाण्डेय
नाम:- प्रतिभा पाण्डेय "प्रति"
Pratibha Pandey
मोल नहीं होता है देखो, सुन्दर सपनों का कोई।
मोल नहीं होता है देखो, सुन्दर सपनों का कोई।
surenderpal vaidya
रिश्ते (एक अहसास)
रिश्ते (एक अहसास)
umesh mehra
लेखनी को श्रृंगार शालीनता ,मधुर्यता और शिष्टाचार से संवारा ज
लेखनी को श्रृंगार शालीनता ,मधुर्यता और शिष्टाचार से संवारा ज
DrLakshman Jha Parimal
सितारों को आगे बढ़ना पड़ेगा,
सितारों को आगे बढ़ना पड़ेगा,
Slok maurya "umang"
तुम याद आ रहे हो।
तुम याद आ रहे हो।
Taj Mohammad
फूल फूल और फूल
फूल फूल और फूल
SATPAL CHAUHAN
कलानिधि
कलानिधि
Raju Gajbhiye
■ लघुकथा...
■ लघुकथा...
*Author प्रणय प्रभात*
सूरज की किरणों
सूरज की किरणों
Sidhartha Mishra
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
पंकज कुमार कर्ण
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
Rj Anand Prajapati
राजनीतिक यात्रा फैशन में है, इमेज बिल्डिंग और फाइव स्टार सुव
राजनीतिक यात्रा फैशन में है, इमेज बिल्डिंग और फाइव स्टार सुव
Sanjay ' शून्य'
मन बड़ा घबराता है
मन बड़ा घबराता है
Harminder Kaur
फूल भी हम सबको जीवन देते हैं।
फूल भी हम सबको जीवन देते हैं।
Neeraj Agarwal
"सन्देशा भेजने हैं मुझे"
Dr. Kishan tandon kranti
*शुभ गणतंत्र दिवस कहलाता (बाल कविता)*
*शुभ गणतंत्र दिवस कहलाता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
तेरे दिल में मेरे लिए जगह खाली है क्या,
तेरे दिल में मेरे लिए जगह खाली है क्या,
Vishal babu (vishu)
लोग खुश होते हैं तब
लोग खुश होते हैं तब
gurudeenverma198
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
shabina. Naaz
Ek din ap ke pas har ek
Ek din ap ke pas har ek
Vandana maurya
मुफ़्त
मुफ़्त
नंदन पंडित
मैथिली साहित्य मे परिवर्तन से आस जागल।
मैथिली साहित्य मे परिवर्तन से आस जागल।
Acharya Rama Nand Mandal
दूसरी दुनिया का कोई
दूसरी दुनिया का कोई
Dr fauzia Naseem shad
Anxiety fucking sucks.
Anxiety fucking sucks.
पूर्वार्थ
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
वस्रों से सुशोभित करते तन को, पर चरित्र की शोभा रास ना आये।
वस्रों से सुशोभित करते तन को, पर चरित्र की शोभा रास ना आये।
Manisha Manjari
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੀ ਆਤਮਾ
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੀ ਆਤਮਾ
विनोद सिल्ला
आदिम परंपराएं
आदिम परंपराएं
Shekhar Chandra Mitra
Loading...