Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2017 · 1 min read

** कैसे भूल जाऊं **

कैसे भूल जाऊं अपने दिल की आवाज़
दिल को कैसे समझाऊं दिल की बात
कैसे भूल जाऊं ………..
कैसे मैं मर जाऊं, झूठी शान के लिए
घुट-घुट के ना मर जाऊं शान के लिए
कैसे भूल जाऊं ………..
भूलूं अब कैसे संग-संग बीती वो रैना
तुम बिन आये ना अब दिल को चैना
कैसे भूल जाऊं ………….
दिल क्यूं जलाऊं ग़म की अगन में
लागी लगन तोसे दिल क्यूं जलाऊं मैं
कैसे भूल जाऊं………….
कैसे दिलाऊं अब दिल को दिलाशा
यादों को तेरी अब दिल से लगा कर
कैसे भूल जाऊं…………..
झूठी है शान अपनी जीवन की शाम
मैंने तो कर दी बस जिंदगानी तेरे नाम
कैसे भूल जाऊं…………
?मधुप बैरागी

1 Like · 595 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from भूरचन्द जयपाल
View all
You may also like:
"कठपुतली"
Dr. Kishan tandon kranti
बात शक्सियत की
बात शक्सियत की
Mahender Singh
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
Sunil Suman
सुकून
सुकून
अखिलेश 'अखिल'
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
2749. *पूर्णिका*
2749. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मिलना था तुमसे,
मिलना था तुमसे,
shambhavi Mishra
यूंही नहीं बनता जीवन में कोई
यूंही नहीं बनता जीवन में कोई
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
Vishal babu (vishu)
आकुल बसंत!
आकुल बसंत!
Neelam Sharma
*गलतफहमी*
*गलतफहमी*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वर दो हमें हे शारदा, हो  सर्वदा  शुभ  भावना    (सरस्वती वंदन
वर दो हमें हे शारदा, हो सर्वदा शुभ भावना (सरस्वती वंदन
Ravi Prakash
चाहत
चाहत
Sûrëkhâ
उदास हो गयी धूप ......
उदास हो गयी धूप ......
sushil sarna
ଧରା ଜଳେ ନିଦାଘରେ
ଧରା ଜଳେ ନିଦାଘରେ
Bidyadhar Mantry
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
Anand Kumar
आत्मीय मुलाकात -
आत्मीय मुलाकात -
Seema gupta,Alwar
*मै भारत देश आजाद हां*
*मै भारत देश आजाद हां*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जिंदगी में सिर्फ हम ,
जिंदगी में सिर्फ हम ,
Neeraj Agarwal
The Magical Darkness
The Magical Darkness
Manisha Manjari
चित्र कितना भी ख़ूबसूरत क्यों ना हो खुशबू तो किरदार में है।।
चित्र कितना भी ख़ूबसूरत क्यों ना हो खुशबू तो किरदार में है।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
आचार्य शुक्ल के उच्च काव्य-लक्षण
आचार्य शुक्ल के उच्च काव्य-लक्षण
कवि रमेशराज
"I'm someone who wouldn't mind spending all day alone.
पूर्वार्थ
#लघुकविता
#लघुकविता
*Author प्रणय प्रभात*
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझको
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझको
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हासिल-ए-ज़िंदगी फ़क़त,
हासिल-ए-ज़िंदगी फ़क़त,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सामाजिक न्याय के प्रश्न
सामाजिक न्याय के प्रश्न
Shekhar Chandra Mitra
बेवजह किसी पे मरता कौन है
बेवजह किसी पे मरता कौन है
Kumar lalit
पत्थर
पत्थर
manjula chauhan
Loading...