Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

कैसे देखनी है…?!

घड़ी कैसे देखनी है, ये क़िताब सिखाती है।
क़िताब कैसे देखनी है, ये वक्त सिखाता है।
वक्त कैसे देखना है, ये हालात सिखाते हैं।
हालात कैसे देखने हैं, ये दुनिया सिखाती है।
दुनिया कैसे देखनी है, ये ज़िंदगी सिखाती है।
ज़िंदगी कैसे देखनी चाहिए, ये मौत सिखाती है।
मौत कैसे देखनी है, ये भी ज़िंदगी ही सिखाती है।

✍️सृष्टि बंसल

Language: Hindi
1 Like · 42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ऑफिसियल रिलेशन
ऑफिसियल रिलेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मोरनी जैसी चाल
मोरनी जैसी चाल
Dr. Vaishali Verma
*सत्य ,प्रेम, करुणा,के प्रतीक अग्निपथ योद्धा,
*सत्य ,प्रेम, करुणा,के प्रतीक अग्निपथ योद्धा,
Shashi kala vyas
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
Atul "Krishn"
हम पर कष्ट भारी आ गए
हम पर कष्ट भारी आ गए
Shivkumar Bilagrami
मंथन
मंथन
Shyam Sundar Subramanian
भगवान सर्वव्यापी हैं ।
भगवान सर्वव्यापी हैं ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
काश़ वो वक़्त लौट कर
काश़ वो वक़्त लौट कर
Dr fauzia Naseem shad
भूखे भेड़िए
भूखे भेड़िए
Shekhar Chandra Mitra
शिव
शिव
Dr Archana Gupta
चाय में इलायची सा है आपकी
चाय में इलायची सा है आपकी
शेखर सिंह
■ सुबह की सलाह।
■ सुबह की सलाह।
*Author प्रणय प्रभात*
जाना जग से कब भला , पाया कोई रोक (कुंडलिया)*
जाना जग से कब भला , पाया कोई रोक (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तुम इश्क लिखना,
तुम इश्क लिखना,
Adarsh Awasthi
विद्यालयीय पठन पाठन समाप्त होने के बाद जीवन में बहुत चुनौतिय
विद्यालयीय पठन पाठन समाप्त होने के बाद जीवन में बहुत चुनौतिय
पूर्वार्थ
अभागा
अभागा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मात्र क्षणिक आनन्द को,
मात्र क्षणिक आनन्द को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
gurudeenverma198
सृष्टि का कण - कण शिवमय है।
सृष्टि का कण - कण शिवमय है।
Rj Anand Prajapati
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
Phool gufran
My City
My City
Aman Kumar Holy
*इन तीन पर कायम रहो*
*इन तीन पर कायम रहो*
Dushyant Kumar
"तलाश में क्या है?"
Dr. Kishan tandon kranti
कामयाबी
कामयाबी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गीत
गीत
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
Loading...