Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

कैसे कहूँ कि तेरे बिना ग़म नहीं हुआ

कैसे कहूँ कि तेरे बिना, ग़म नहीं हुआ
जो भी हुआ, जितना हुआ कम नहीं हुआ।

औरों की तरह मैं भी तन्हा जी गया तो क्या
सच कहूँ जीने का कभी भरम नहीं हुआ।

कह सकूँ तो कह दूं, मगर कह नहीं सकता
मेरे दर्दे-दिल का कोई मरहम नहीं हुआ।

थक भी गया हूँ, अब मैं तेरे इंतज़ार में
मगर हौसला है, मैं अभी बेदम नहीं हुआ।

इक दिन भी ऐसा ना हुआ, तुम याद ना आए
अब तक मगर तेरा कोई रहम नहीं हुआ।

©आनंद बिहारी, चंडीगढ़
https://facebook.com/anandbiharilive/

1 Like · 9 Comments · 825 Views
You may also like:
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम साथ अगर देते नाकाम नहीं होता
Dr Archana Gupta
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
💔💔...broken
Palak Shreya
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
बंदर भैया
Buddha Prakash
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रफ्तार
Anamika Singh
पिता
Keshi Gupta
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
Loading...