Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

कैसे कहूँ कि तेरे बिना ग़म नहीं हुआ

कैसे कहूँ कि तेरे बिना, ग़म नहीं हुआ
जो भी हुआ, जितना हुआ कम नहीं हुआ।

औरों की तरह मैं भी तन्हा जी गया तो क्या
सच कहूँ जीने का कभी भरम नहीं हुआ।

कह सकूँ तो कह दूं, मगर कह नहीं सकता
मेरे दर्दे-दिल का कोई मरहम नहीं हुआ।

थक भी गया हूँ, अब मैं तेरे इंतज़ार में
मगर हौसला है, मैं अभी बेदम नहीं हुआ।

इक दिन भी ऐसा ना हुआ, तुम याद ना आए
अब तक मगर तेरा कोई रहम नहीं हुआ।

©आनंद बिहारी, चंडीगढ़
https://facebook.com/anandbiharilive/

1 Like · 9 Comments · 931 Views
You may also like:
फकीरे
Shiva Awasthi
संत कबीरदास✨
Pravesh Shinde
जिसके दिल से निकाले गए
कवि दीपक बवेजा
बिटिया दिवस
Ram Krishan Rastogi
"अटपटा प्रावधान"
पंकज कुमार कर्ण
- साहित्य मेरी जान -
bharat gehlot
क्यों बात करते हो.......
J_Kay Chhonkar
दो पँक्ति दिल की कलम से
N.ksahu0007@writer
जश्न आजादी का
Kanchan Khanna
The day I decided to hold your hand.
Manisha Manjari
आज नहीं तो निश्चय कल
Satish Srijan
मैं कही रो ना दूँ
Swami Ganganiya
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
जो हुआ अच्छा, जो हो रहा है अच्छा, जो होगा...
Uday kumar
हिल गया इंडिया
Shekhar Chandra Mitra
भोजपुरिया दोहा दना दन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हंसना और रोना।
Taj Mohammad
आँखों में बगावत है ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
आदि शक्ति
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तेरे दिल को मैं छुआ करूं
Dr fauzia Naseem shad
दुर्योधन कब मिट पाया :भाग:40
AJAY AMITABH SUMAN
घर
Saraswati Bajpai
प्रिय आदर्श शिक्षक
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
✍️एक सुबह और एक शाम
'अशांत' शेखर
तकदीर
Anamika Singh
भगतसिंह कैसा ये तेरा पंजाब हो गया
Kaur Surinder
*रियासत रामपुर और राजा रामसिंह : कुछ प्रश्न*
Ravi Prakash
Loading...