Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

कैलेंडर नया पुराना

रात को सोया जब
कैलेंडर ज़िंदा था मेरे शयनकक्ष में टंगा
सुबह देखा
हर्फ हर्फ उसके निस्तेज हो गए हैं
गर्दनें लटक कर उनकी
भेंट चढ़ गई हैं
समय की सूली पर

मौत से लगकर
नया सिरज कर अनिवार आना
बार बार आना
मौतों से गुजर कर आना
विकल्प बन कर आना
सहज भले नहीं है
स्वाभाविक है मगर

खूंटी पर टंग गया है
साइबर सॉफ्ट कैलेंडर जैसे
साबुत नए कैलेंडर का विकल्प बन
उसे अपदस्थ कर।

Language: Hindi
1 Like · 267 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
#DrArunKumarshastri
#DrArunKumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तैराक हम गहरे पानी के,
तैराक हम गहरे पानी के,
Aruna Dogra Sharma
दोस्ती अच्छी हो तो रंग लाती है
दोस्ती अच्छी हो तो रंग लाती है
Swati
बार -बार दिल हुस्न की ,
बार -बार दिल हुस्न की ,
sushil sarna
सवाल जिंदगी के
सवाल जिंदगी के
Dr. Rajeev Jain
जिंदगी....एक सोच
जिंदगी....एक सोच
Neeraj Agarwal
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
सत्य कुमार प्रेमी
वीर तुम बढ़े चलो!
वीर तुम बढ़े चलो!
Divya Mishra
बाबा साहेब अम्बेडकर / मुसाफ़िर बैठा
बाबा साहेब अम्बेडकर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
इस क़दर उलझा हुआ हूं अपनी तकदीर से,
इस क़दर उलझा हुआ हूं अपनी तकदीर से,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जगह-जगह पुष्प 'कमल' खिला;
जगह-जगह पुष्प 'कमल' खिला;
पंकज कुमार कर्ण
ख्वाबों के रेल में
ख्वाबों के रेल में
Ritu Verma
पिता
पिता
Dr Manju Saini
किसान
किसान
Dp Gangwar
■ आज का शेर शुभ-रात्रि के साथ।
■ आज का शेर शुभ-रात्रि के साथ।
*प्रणय प्रभात*
चूड़ियाँ
चूड़ियाँ
लक्ष्मी सिंह
फितरत इंसान की....
फितरत इंसान की....
Tarun Singh Pawar
अमर क्रन्तिकारी भगत सिंह
अमर क्रन्तिकारी भगत सिंह
कवि रमेशराज
वो एक ही मुलाकात और साथ गुजारे कुछ लम्हें।
वो एक ही मुलाकात और साथ गुजारे कुछ लम्हें।
शिव प्रताप लोधी
Man has only one other option in their life....
Man has only one other option in their life....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"याद रहे"
Dr. Kishan tandon kranti
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – बाल्यकाल और नया पड़ाव – 02
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – बाल्यकाल और नया पड़ाव – 02
Sadhavi Sonarkar
यह हिन्दुस्तान हमारा है
यह हिन्दुस्तान हमारा है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
इरशा
इरशा
ओंकार मिश्र
3565.💐 *पूर्णिका* 💐
3565.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
किसी को अपने संघर्ष की दास्तान नहीं
किसी को अपने संघर्ष की दास्तान नहीं
Jay Dewangan
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
Phool gufran
बेटियां ?
बेटियां ?
Dr.Pratibha Prakash
"डोली बेटी की"
Ekta chitrangini
किससे कहे दिल की बात को हम
किससे कहे दिल की बात को हम
gurudeenverma198
Loading...