Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2023 · 1 min read

*केवल पुस्तक को रट-रट कर, किसने प्रभु को पाया है (हिंदी गजल)

केवल पुस्तक को रट-रट कर, किसने प्रभु को पाया है (हिंदी गजल)
_________________________
1)
केवल पुस्तक को रट-रट कर, किसने प्रभु को पाया है
गुड़ का स्वाद जानता वह ही, जिसने गुड़ को खाया है
2)
जिन पेड़ों पर छॉंव नहीं है, खड़े ठूॅंठ से दिखते हैं
उन पेड़ों के पास पथिक कब, लेने आश्रय आया है
3)
सदा यत्न से रखो स्वस्थ तन, यह अनमोल खजाना है
जो है भार धरा पर उसको, अर्थी ने अपनाया है
4)
करो प्रशंसा सदा अन्य की, काम जगत के नित आना
आत्म-प्रशंसक शेखी वाला, इस जग ने ठुकराया है
5)
पुण्य किए थे जितने जिसने, काम बुढ़ापे में आए
स्वार्थ सिद्ध करने वालों को, जग ने भी भटकाया है
————————————–
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर ,उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615 451

155 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
भारत माँ के वीर सपूत
भारत माँ के वीर सपूत
Kanchan Khanna
मै पूर्ण विवेक से कह सकता हूँ
मै पूर्ण विवेक से कह सकता हूँ
शेखर सिंह
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
तेरे दुःख की गहराई,
तेरे दुःख की गहराई,
Buddha Prakash
उठ जाग मेरे मानस
उठ जाग मेरे मानस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन आसान नहीं है...
जीवन आसान नहीं है...
Ashish Morya
“ प्रेमक बोल सँ लोक केँ जीत सकैत छी ”
“ प्रेमक बोल सँ लोक केँ जीत सकैत छी ”
DrLakshman Jha Parimal
ज़िंदगी एक कहानी बनकर रह जाती है
ज़िंदगी एक कहानी बनकर रह जाती है
Bhupendra Rawat
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#दोषी_संरक्षक
#दोषी_संरक्षक
*Author प्रणय प्रभात*
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का परिचय।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का परिचय।
Dr. Narendra Valmiki
कैसे भूल जाएं...
कैसे भूल जाएं...
Er. Sanjay Shrivastava
शराब
शराब
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हर बात हर शै
हर बात हर शै
हिमांशु Kulshrestha
तनहाई
तनहाई
Sanjay ' शून्य'
यह कैसा आया ज़माना !!( हास्य व्यंग्य गीत गजल)
यह कैसा आया ज़माना !!( हास्य व्यंग्य गीत गजल)
ओनिका सेतिया 'अनु '
* मुस्कुराते हुए *
* मुस्कुराते हुए *
surenderpal vaidya
आपदा से सहमा आदमी
आपदा से सहमा आदमी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
Pankaj Sen
बिधवा के पियार!
बिधवा के पियार!
Acharya Rama Nand Mandal
देना और पाना
देना और पाना
Sandeep Pande
फिर से आंखों ने
फिर से आंखों ने
Dr fauzia Naseem shad
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
Arghyadeep Chakraborty
"रियायत"
Dr. Kishan tandon kranti
Feelings of love
Feelings of love
Bidyadhar Mantry
प्रेम का सौदा कभी सहानुभूति से मत करिए ....
प्रेम का सौदा कभी सहानुभूति से मत करिए ....
पूर्वार्थ
कुछ तो बात है मेरे यार में...!
कुछ तो बात है मेरे यार में...!
Srishty Bansal
नवरात्र के सातवें दिन माँ कालरात्रि,
नवरात्र के सातवें दिन माँ कालरात्रि,
Harminder Kaur
*घर में बैठे रह गए , नेता गड़बड़ दास* (हास्य कुंडलिया
*घर में बैठे रह गए , नेता गड़बड़ दास* (हास्य कुंडलिया
Ravi Prakash
Loading...