Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2023 · 1 min read

कुदरत

कुदरत
*******

कुदरत के सतरंगी रंगो ने
रच डाला इस संसार को,
इंद्रधनुषी रंगो ने निखारा
जीवन जगत संसार को।

नित नया रूप बदलता
ओढ़ बादलो की श्वेत चादर,
फूलों की चुनरी फैलाकर
लाती मौसम मनभावन ।

खग,विहग,पशु ,पादप
श्रंगार धरा का मृदुतम है,
तराशती ,संवारती कुदरत
सर्जना भी इसकी अनुपम है,

मलयज मस्त पवन बहते
कल कल सरिता बहती है,
पुलकित हर्षित प्रात: ललिमा
करती वंदन अभिनंदन है।

3 Likes · 215 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दूर की कौड़ी ~
दूर की कौड़ी ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
"ऐसी कोई रात नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
लेखनी
लेखनी
Prakash Chandra
सेवा कार्य
सेवा कार्य
Mukesh Kumar Rishi Verma
पिछली भूली बिसरी बातों की बहुत अधिक चर्चा करने का सीधा अर्थ
पिछली भूली बिसरी बातों की बहुत अधिक चर्चा करने का सीधा अर्थ
Paras Nath Jha
विषय सूची
विषय सूची
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
जिन्दगी से भला इतना क्यूँ खौफ़ खाते हैं
जिन्दगी से भला इतना क्यूँ खौफ़ खाते हैं
Shweta Soni
इबादत
इबादत
Dr.Priya Soni Khare
भय आपको सत्य से दूर करता है, चाहे वो स्वयं से ही भय क्यों न
भय आपको सत्य से दूर करता है, चाहे वो स्वयं से ही भय क्यों न
Ravikesh Jha
इसमें कोई दो राय नहीं है
इसमें कोई दो राय नहीं है
Dr fauzia Naseem shad
समय यात्रा: मिथक या वास्तविकता?
समय यात्रा: मिथक या वास्तविकता?
Shyam Sundar Subramanian
अश्लील वीडियो बनाकर नाम कमाने की कृत्य करने वाली बेटियों, सा
अश्लील वीडियो बनाकर नाम कमाने की कृत्य करने वाली बेटियों, सा
Anand Kumar
हमें रामायण
हमें रामायण
Dr.Rashmi Mishra
आओ नया निर्माण करें
आओ नया निर्माण करें
Vishnu Prasad 'panchotiya'
एहसास
एहसास
Er.Navaneet R Shandily
एक तिरंगा मुझको ला दो
एक तिरंगा मुझको ला दो
लक्ष्मी सिंह
पैगाम डॉ अंबेडकर का
पैगाम डॉ अंबेडकर का
Buddha Prakash
आखिरी वक्त में
आखिरी वक्त में
Harminder Kaur
एक गुल्लक रख रखी है मैंने,अपने सिरहाने,बड़ी सी...
एक गुल्लक रख रखी है मैंने,अपने सिरहाने,बड़ी सी...
पूर्वार्थ
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
तुझे कैसे बताऊं तू कितना खाश है मेरे लिए
तुझे कैसे बताऊं तू कितना खाश है मेरे लिए
yuvraj gautam
💐अज्ञात के प्रति-68💐
💐अज्ञात के प्रति-68💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं पीपल का पेड़
मैं पीपल का पेड़
VINOD CHAUHAN
क्या यही संसार होगा...
क्या यही संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
किरदार अगर रौशन है तो
किरदार अगर रौशन है तो
shabina. Naaz
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
3089.*पूर्णिका*
3089.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आप सुनो तो तान छेड़ दूं
आप सुनो तो तान छेड़ दूं
Suryakant Dwivedi
Loading...